क़िताबें

व्यक्तित्व

माँ से ही तो हैं हम, माँ पर क्या लिखना। जगत जननी, जग पालक, माँ पर क्या लिखना।। तवे पे पकती रोटी माँ, सबसे बड़ी मनौती माँ। सारे दुख दर्दों को हर ले, वो है बस इकलौती माँ।। वही तो चारों धाम है, माँ पर क्या लिखना। जगत जननी, जग […]

जीवन के उत्तरार्द्ध पर उतरते हुए अपनों-परायों के बीच खेलते हुए अब मुझमें भी बड़ा बनने की इच्छा जाग रही है यह हुनर सीखना भी आसान नहीं चूंकि मुझे सीखना था इसलिए गुरु भी ढूंढ लिए आप सोच रहे होंगे इसके लिए मुझे ज्यादा भटकना पड़ा अरे नहीं जी, सब […]

असंख्य सृजन साहित्य कलाओं, का सक्षम परिमाण है भारत। उत्कृष्ट धर्म ग्रन्थ व उपनिषदों का, प्रत्यक्ष प्रमाण है भारत। ललित कलित सी भिन्न विधाओं , का सुंदर आयाम है भारत, सर्वसुसज्जित संस्कृतियों का, पावनतम यह धाम है भारत। रूप रंग बोली भाषा, ढंग रिवाज़ है अलग-अलग। अलग-अलग ही है विचार […]

जयंती (6 जुलाई) पर विशेष प्रो.संजय द्विवेदी भूमि, जन तथा संस्कृति के समन्वय से राष्ट्र बनता है। संस्कृति राष्ट्र का शरीर, चिति उसकी आत्मा तथा विराट उसका प्राण है। भारत एक राष्ट्र है और वर्तमान समय में एक शक्तिशाली भारत के रूप में उभर रहा है। राष्ट्र में रहने वाले […]

सुबह की पहली किरण हर पल मुझसे यह कहती है, तू क्यों उदास बैठी है? ऐसे उठ और चल तेरी मंज़िल आज ख़ुद तेरा इंतज़ार करती है। क्यों गुमनाम अंधेरों में बैठी हो? ऐसे आज तू उठकर बाहर निकलने की कोशिश तो कर, रोशनी की किरण आज ख़ुद तेरा इंतज़ार […]

सहमीं छितराती बदली देवदार की ऊंगली पकड़ पहाड़ के सीने पर सिर झुकाए खड़ी है। प्रवासी प्रेमी का रूदन रिमझिम बरसकर कंदराओं से झर जड़ों में जम रहा। पल्लव से चिपकी बूंदें हवा से बतियाते हुए धीरे धीरे फिसल नदी में विलीन। उन्मादी मन पंछी चोंच में सपने दबाए टहनियां […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।