आगरा | आधुनिक युग में बेटियों की गर्भ में ही भ्रूणहत्या कर दी जाती है, हालांकि अब सरकार ने कानून बनाकर इस पर रोक लगा दी है । लेकिन अब भी कुछ शैतान चोरी-छिपे भ्रूणहत्या जैसे घिनौने कार्य कर रहे हैं । यह बात किसी से छिपी नहीं है कि […]

मातृभाषा ने जिलाधीश इन्दौर को सौंपा आग्रह पत्र इन्दौर। कोरोना की भयावहता के बाद शहर में समस्त सांस्कृतिक आयोजन होना प्रतिबंधित है और इससे शहर की प्रतिभाओं के सामने आर्थिक संकट खड़ा हुआ है। इसी को ध्यान में रखते हुए मातृभाषा उन्नयन संस्थान ने इन्दौर जिलाधीश को एक आग्रह पत्र […]

गुरुपूर्णिमा की संध्या पर कलम की सुगंध छंदशाला परिवार के द्वारा आनलाइन काव्य सम्मेलन का आयोजन किया गया ।कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्थापक आदरणीय संजय कौशिक विज्ञात जी,मुख्य अतिथि बाबूलाल शर्मा ‘विज्ञ’ और विशिष्ट अतिथि सीमा अवस्थी रही । मंच संचालन अर्चना पाठक निरन्तर और इन्द्राणी साहू साँची ने की । […]

हिन्दी फिल्म जगत के सुपरस्टार राजेश खन्ना ने अपनी फिल्म ‘आनन्द’ में एक मशहूर डायलॉग बोला था, “जिंदगी बड़ी होनी चाहिए लंबी नहीं….।” इसी सिद्धांत पर चलने वाले कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ ने अपनी छोटी सी उम्र में जो सदाबहार जीवन जिया है उस पर ‘दस्तक साहित्य संसार’ ने एक […]

आगरा । साहित्यिक संस्था – बृजलोक साहित्य, कला, संस्कृति अकादमी के सौजन्य से पावनपर्व गुरु पूर्णिमा के पावन अवसर पर एक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया । संस्था को देशभर से सम्मानार्थ प्रविष्टियां प्राप्त हुई थीं। प्रविष्ठियां ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों माध्यमों से स्वीकार की गई थीं। सभी प्रविष्टि […]

कुछ क़र गुजरने का जज्बा मन में हो तो कुछ भी असंभव नहीं है यही चथुर्थात सिद्ध क़र दिखाया ज्ञान ज्योति निःशुल्क कोचिंग टीम ने अध्यक्ष इंजीनियर राहुल मेघवाल ने बताया की उदयपुर में ज्ञान ज्योति सेवा संस्थान द्वारा जा रही निःशुल्क कोचिंग से 147 विद्यार्थियों का चयन हुआ संस्थान […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।