जीत की ही राह चली न हारती रही शान है वो हिन्द की भारती रहीं शक्ति के रूप में देखा है सभी ने मुश्किलों में दिन भी वो गुजारती रहीं माँ का वो बहन का वो भगवान रूप है होती रहीं पूजा कभी ,आरती रहीं बच्चों को पढ़ाया और सम्मान […]

श्री पंत और डॉ. दवे हिन्दी गौरव अलंकरण से होंगे विभूषित इंदौर। हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए प्रतिबद्ध ‘मातृभाषा उन्नयन संस्थान’ आज रविवार स्थानीय साउथ एवेन्यू हॉटल में दोपहर 3 बजे से हिन्दी गौरव अलंकरण समारोह आयोजित करने जा रहा हैं। वर्ष 2021 के हिन्दी गौरव अलंकरण चयन समिति […]

हमारा है प्यारा बहुत देश जिसमें रहते हर धर्म के लोग ये हमारा हिंदुस्तान है..। जिसमें बसते सबके प्राण तभी तो करते सब प्यार ये हमारा हिंदुस्तान है..।। जहाँ अनेकता में एकता नजर आती है सदा ये हमारा हिंदुस्तान है..। मनाये मिलकर हर त्यौहार चाहे हो वो होली दीपाली ईद […]

संत रविदास जी है गुरुवर हमारे हो रहा गुणगान जिनका वो है प्यारे सत्य की जिसने सदा ही राह दिखाया तेरे बंदे आ गए है सब तेरे द्वारे संत रविदास….. माता गंगा से भी तुमने वरदान पाया मान कुल भी सदा तुमने बढ़ाया हर लिए दुःख जितने भी थे तुमने […]

जीव धरा पर जो भी आया है सब परमात्मा की माया जीवो पर जो हिंसा करते खुद भी दारुण दुःख भुगतते दया,करुणा,ममता जो करते मानवता की मिशाल वे बनते इसी मानवता को आगे बढाओ जीवन मे अहिंसा को अपनाओ जीवन दे नही सकते लेते क्यो हो परमात्म रचना उजाड़ते क्यो […]

आजाद थे, आजाद ही रहे, आंदोलन- भारतीय स्वतंत्रता संग्राम संचालित करते रहे । न गोरों की पराधीनता स्वीकार की- चंद्रशेखर आजाद, लाल भारत मां के प्रिय रहे ।। मुकेश कुमार ऋषि वर्मा Post Views: 3

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।