वैचारिक महाकुंभ

मुट्ठी में घुटती साँसें

शफ़क़ में सफ़ेद .... समंदर नमक का चमचमाते पुखराज के टुकड़ों-सा, लोगों का हुज़ूम फिर भी जाने क्यों,तन्हा छोटे-छोटे गड्ढों पर पड़ा पानी लगते उसके आँसू क्या लोगों के पैरों तले रौंदे जाने का दर्द ? या अकेलापन,उपेक्षा कोई खोदता,मुट्ठी में भरता उछालता,चखता फेंककर चला जाता खोदे जाने का ज़ख्म मुट्ठी में घुटती साँसें उछलकर गिरने की चोट, पर उसके आँसूओं को न पोंछता ...

Read More

ताज बेमिसाल

बनाकर ताज शाहजहां ने, दुनिया को  तोहफा दिया है।  हर आशिक की यादों में,  मुमताज को जिंदा कर दिया है॥  संगमरमर से तराशा है,  मुहब्बत की निशानी को।  जज्बातों से लिख दिया,   प्यार की कहानी को॥  मिसाल ए मुहब्बत को,   रूबरू-ए-दुनिया रख़ दिया है।  हर आशिक की यादों में,  मुमताज को जिंदा कर दिया है॥           ...

Read More

रोज पढ़ता हूं तेरा चेहरा...

है वफ़ा मेरी मुकम्मल इक रिवायत की तरह, काश आते ज़िन्दगी में तुम इनायत की तरह। तुझसे मिलना बन्दगी से कम नहीं हर्गिज़ सनम, मैंने देखा है सदा तुझको इबादत की तरह। अश्क तेरे मुझसे हरगिज़ छुप नहीं सकते कभी, रोज़ पढ़ता हूँ तेरा चेहरा किसी ख़त की तरह। नाम लेकर मैं उसी का काम करता ...

Read More

तुम सभी चले आना...

मय्यत में मेरी तुम सभी चले आना, भूले से भी न तुम आँसू बहाना। उठाकर जनाजा कंधों पर अपने, मुझे शमशान तक सभी छोड़ आना॥ होंगे उस वक़्त वो नींद में मगरूर, भूले से भी न उसे तुम जगाना। मय्यत में मेरी तुम सभी चले आना॥ मुझसे अलग भी दुनिया है उसकी,    उसे कहो तुम सपनों में ...

Read More

माँ `रेड चिली`

कॉलेज में कदम रखते ही बिटिया,लगी कि बड़ी हो गई। इस जमाने में वैसे भी बच्ची जल्दी ही समझदार हो जाती है। एक समय था जब संस्कार,शिक्षा,नैतिकता,रिश्तेदारी का सबक परिवार में रोजमर्रा,सहज ही मिल जाता था। अब सबकी कक्षाएं लगती हैl डिप्लोमा-डिग्री से नवाजते हैं। शर्मा जी की बिटिया,अब आधुनिक हो ...

Read More

किसी कृष्ण की तलाश करें

मनुष्य का जब जन्म होता है तो वह प्रथम तीन से जुड़ता है। पहला स्थान माँ का है। माँ का वह अभिन्न अंग है,पिता  उसके लिए सूचना है और प्रसव के समय धाय से भी वह अज्ञात भाव से परिचित हो जाता है। इन तीनों से जुड़कर वह इस धरती पर लीला शुरू करता है। जीवन ...

Read More

हिंदुस्तानी हैं

हम आर्य पुत्र,धर्मरक्षक, हम सन्त सनातन ज्ञानी हैं। हम चक्र-सुदर्शन धारी हैं, हम अर्जुन आज्ञाकारी हैं। हम वीर भगत-आजाद से, धरती पुत्र बलिदानी हैं। हम सब हिंदुस्तानी हैं,  हम सब हिंदुस्तानी हैंll  हमने सबको देना सीखा, लेने की कोई प्यास नहीं  जितना दिया सरकार ने हमको, उससे ज्यादा की आस नहीं। हम भले रहें सुदामा-सा, वक्त पर दधीचि दानी हैं। हम सब हिंदुस्तानी हैं, हम ...

Read More

बसंत

छाया बंसत सुरभित पवन पिया की यादl कोकिल कहे कुहूँ-कुहूँ पुकार प्रियतम आl आँखियां रोवें उठे कसक जिया बैरी बसंतl पीत वसन लहराती वसुधा गोरी उदासl                #लिली मित्रा परिचय : इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर करने वाली श्रीमती लिली मित्रा हिन्दी भाषा के प्रति स्वाभाविक आकर्षण रखती हैं। इसी वजह से इन्हें ब्लॉगिंग करने की प्रेरणा मिली है। ...

Read More


Custom Text
  • लेखक दीर्घा matrubhasha
Custom Text