“ममा” विवेक ने संजना को झंझोड़ा। “हां बेटा! क्या बात है?” संजना ने विवेक के सिर पर हाथ रखा। अपनी मां के मुख से प्रिय वचन विवेक ने बहुत दिनों के बाद सुने था। घर गृहस्थी की परेशानी से चिढ़चिढ़े पन की ओढ़नी ओढ़ चूकी संजना अपने हाथों से विवेक […]

नरेगा यानी कि मनरेगा ! भारत सरकार की वह योजना, जिससे गरीबों का भला होने वाला था, परन्तु भला हो गया मनरेगा से जुड़े अधिकारियों का | उन्हीं अधिकारियों में से एक हैं सम्पतराम, जो कभी टूटी-फूटी साईकिल पर चला करते थे, वे आजकल बुलेरो गाड़ी से मंत्री वाले ठाठवाठ […]

जय हिंद जय हिंद जय जय जय हिंद इंदु भूषण बाली पत्रकार व भारत के राष्ट्रपति पद का पूर्व प्रत्याशी घर नंबर एक वार्ड नंबर तीन डाकघर व तहसील ज्योड़ियॉ जिला जम्मु जेके Post Views: 61

काँइं – काँइं करती हुई लँगड़ी कुतिया अपना टूटा पैर खींचती हुई बाहर चली गई | काकी ने बड़ी जोर से बेचारी कुतिया की पीठ पर डडोका (लट्ठ) जो मारा था | काकी की ये हरकत आर्यन को कतई अच्छी नहीं लगी | वो रुआँसा सा होकर काकी से बोला […]

इसके बावजूद अपने भाइयों की तरह, उसे न तो कभी वन्य प्राणियों का शिकार करना पसंद था, न ही उन्हें बंधक बनाकर उनका उपभोग करना पसंद था। राजकुमार का वास्तविक नाम तो कोई नहीं जानता था। लेकिन हष्ट पुष्ट स्वस्थ और अच्छी कद काठी के लिए राजकुमार को लोग ‘वनकुमार’ […]