Archives for लघुकथा

Uncategorized

मोबाइल नंबर

* *प्र* गति को उसकी भाभी दिव्या ने करण का मोबाइल नंबर लाकर दिया। दिव्या चाहती थी कि प्रगति स्वयं करण से बात करे। बाहर जाकर मिले-जुले ताकी दोनों के परस्पर…
Continue Reading
Uncategorized

स्नेह

रेल गाडी के सफर मे, किन्नरो का होना कोई नयी या बड़ी बात नहीं. लेकीन उस किन्नर की बात ही कुछ और थी,जो दिल को छू गयी। भिडसे खचाखच भरे…
Continue Reading
Uncategorized

मिस्टर वाहियात

तेज रफ़्तार दुनिया में किसी के पास वक्त ही नहीं रहा कि संबंधों का निर्वाह कर सके।दोस्ती के दायरे सिमटकर रह गए हैं।मित्रों के पास भी बाँटने को शेष है…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है