Archives for हायकू

Uncategorized

आया  सावन 

सावन - झूले मैके  याद दिलाते खुशियाँ  लाते सावन -  बाट जोहती हैं  बेटियाँ झूले का पाट मेघा गरजे झमाझम  बारिश धरा हरषे गायब हुआ पुराना वो सावन मनभावन रक्षा…
Continue Reading
Uncategorized

माँ

ब्रम्हांड है माँ ! अनुभूति प्रथम ! संपूर्ति है माँ ! निःस्वार्थ भाव ! संघर्ष झेलती वो ! है निर्मात्री माँ ! पुनीत भाव ! पवित्र परिभाषा ! पावन है…
Continue Reading
Uncategorized

हाइकू..

माता व पिता, ईश्वर ही तो होते हैं.. घर मन्दिर। घर आँगन, सजे हैं बेटियों से.. सम्मान पात्र। भला ही लागे, प्रफुल्लित मन से.. हर त्यौहार। शक़ का बीज, एक…
Continue Reading
Uncategorized

कोई रंग नहीं भाया

हर तरफ रंग के निशान थे, मुझे कोई रंग नहीं भाया। कोरी कागज-सी खिड़की पर बैठी रही, क्योंकि वो नहीं आया।। गाँव गलियां रंगीं सारी सखियाँ रंगीं, मैंने आँसू से…
Continue Reading
Uncategorized

गौरैया…

"आज विश्व गौरेया दिवस पर विशेष" चोंच में दाना, उठा उड़ी गोरैया.. चुगाती चूजे। कब आओगी, गौरैया मेरे द्वार.. दाना चुगने। पेड़ पर है, तिनकों का घोंसला.. गौरैया नहीं। नन्हीं…
Continue Reading
Uncategorized

हाइकु

ओछे मन के, लोग होते ओछे ही बड़े न होते। दौड़ते लोग, शुगर से लाचार संयम नहीं। मुखौटे लगा, छुपाते हैं चेहरे सच्चे बनते। चैन हराम, दौड़ें जीवन भर धनी…
Continue Reading
12

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है