Archives for साहित्य

Uncategorized

मामला मात्र भाषा का नहीं मातृभाषा का है

जीवन में सामान्य सफलता के लिए समान्यत: बौद्धिक क्षमता को ही सर्वोतम योग्यता स्वीकार किया जाता है और भावनात्मक संतुलन के गुण की अनदेखी की जाती है, लेकिन आजकल के…
Continue Reading
Uncategorized

रोशनी 

हां रोशनी वह शब्द है। यह एक उर्दू शब्द है। जिसे हिन्दी में प्रकाश आंग्ल में लाइट तथा स्थानीय भाषाओं में विभिन्न नामों से जाना जाता है। अब नाम और…
Continue Reading
Uncategorized

खोजना होगा अमृत कलश

काव्य संग्रह............. राजकुमार जैन ‘राजन’ का प्रस्तुत काव्य संग्रह “खोजना होगा अमृत कलश” प्राप्त करने का सौभाग्य मिलने से हमें बहुत ख़ुशी हुई है | देव-दानव “अमृत कलश” के लिए…
Continue Reading
Uncategorized

तार पर टँगी बूँदें

पुस्तक समीक्षा............ वही कविता भविष्य की यात्रा तय कर पाती है जो हमारे जीवन से जुड़ी हो। उसके भाव हमारे दिल की उपज हो या दिल द्वारा ग्राह्य। जो सरलता,सहजता,…
Continue Reading
Uncategorized

‘नूर-ए-ग़ज़ल’ का नूर कायम

पुस्तक समीक्षा................... प्राचीनकाल से बिहार संस्कृति और साहित्य के सन्दर्भ में समृद्ध रहा है और आज भी इसका कोई सानी नहीं है। समय-समय पर समाज के पथ प्रदर्शक और विरासत…
Continue Reading
Uncategorized

प्रेमचंद के बहाने आज के सवाल

(प्रेमचंद जयंती पर विशेष) प्रेमचंद के पुनर्पाठ की आवश्यकता आज के संदर्भों में की जानी चाहिए;ये बात सही है,लेकिन आज की स्थितियाँ बहुत से क्षेत्र में मानवीय और भौतिक विकास…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है