Archives for धर्मदर्शन

भूतो न भविष्यति,राजा भोज यथा दूजा राजा

शौर्य और ऐश्वर्य युगीन राजा भोज का नाम याद आते ही सत्य,साहस,ज्ञान,कौशल और जलाभिषेक का बोध होने लगता है। सम्यक कालजयी बनकर `भूतो न भविष्यति,राजा भोज यथा दूजा राजा` की…
Continue Reading

सूर्य उपासना का पर्व :मकर सक्रांति

मकर सक्रांति को उत्तरायण,माघी, खिचड़ी संक्रांति के नाम से भी जाना जाता है। प्रतिवर्ष हम सब मकर सक्रांति मनाते हैं। पोष माह में जब सूर्य धनु राशि से मकर राशि…
Continue Reading

धर्म एक दृष्टि

मेरी राय में धर्म एक जीवन दृष्टि है। सभी प्राणियों से श्रेष्ठतर संवेदनशील मानव की। अपने सर्वोत्तम की खोज उसे पाने का प्रयत्न एवं आत्म साक्षात्कार के रूप में उस परम शक्ति की…
Continue Reading
Uncategorized

प्रणाम का महत्व…

दोस्तों,आज के इस कलयुगी और मायाचारी संसार में हम और आप अपनी संस्कृति को बिलकुल से ही खो चुके हैं।पश्चिमी सभ्यता को अपने जीवन के साथ अपने घरों में भी…
Continue Reading
Uncategorized

मनाओ या ना मनाओ… किसी ने कसम तो दी नहीं

  शिशिर सोमानी यह लेख स्वतंत्र लेखन श्रेणी का लेख है। इस लेख में प्रयुक्त सामग्री, जैसे कि तथ्य, आँकड़े, विचार, चित्र आदि का, संपूर्ण उत्तरदायित्व इस लेख के लेखक…
Continue Reading
12

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है