Archives for धर्मदर्शन

Uncategorized

भगवान  महावीर की वाणी की सत्यता ।

कितना कुछ इस पंचम काल या कलयुग में होगा या जो हो रहा है , इसे हमारे भगवान की वाणी मे कहा गया कि पंचम काल या कलयुग मे मनुष्य…
Continue Reading
Uncategorized

मां पूर्णागिरी उत्तर भारत के प्रसिद्ध तीर्थस्थलों में से एक

      हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार कुल इक्यावन शक्तिपीठ हैं।जिनमें से माता सती की नाभि गिरने के कारण यह स्थान मां पूर्णागिरी के नाम से संसार में प्रसिद्ध हुआ।…
Continue Reading
Uncategorized

भारत के कण कण में बसा रामनवमी त्योहार

पौराणिक कथानुसार अयोध्या के प्रतापी राजा दशरथ की कोई संतान नहीं थी,इसलिए उन्होंने ऋषि वशिष्ठ से संतान प्राप्ति का मार्ग  पुछा।ऋषि वशिष्ठ ने उन्हें संतान प्राप्ति के लिए पुत्र कामेष्टि…
Continue Reading
Uncategorized

हे माँ धरती पर प्रचंड रूप धर आ जाओ।

हो रहा अत्याचार मासूमों पर माँ, बिलख रही किलकारी है माँ। ले कर के खड्ग और त्रिशूल माँ, दुष्टों के शीश भेट चढ़ा जाओ। हे माँ प्रचंड रूप धर आ…
Continue Reading
Uncategorized

कुम्भ मेले का इतिहास और अखाड़ा व पेशवाई का महत्व

कुम्भ मेले का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है । कुम्भ दो प्रकार का होता है – अर्ध कुम्भ और पूर्ण कुम्भ या महाकुम्भ । कुम्भ मेले का इतिहास लगभग…
Continue Reading
Uncategorized

महामंत्र जोइ जपत महेसु कासी मुकुति हेतु उपदेसु

राम नाम की महिमा को ब्रह्मांड में दो  लोग ही जानते है एक भगवान शिव तो दूसरे उनके पुत्र गणेश ... शिव राम नाम के महामंत्र का जाप केवल काशी…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है