Archives for काव्यभाषा

Uncategorized

कैसे कहें !

जो  वीर  जवान  सीमा  पर  तैनात   रहें उन बलिदानों की कथा भला कोई कैसे कहे कैसे कहें , मां की  ममता भरी वेदना जो अपने लला के लिए अश्रु में…
Continue Reading
Uncategorized

आजादी

मिली नही आजादी हमको अंग्रेजियत के बाने से हिन्दी मेरी उदास हो रही अंग्रेजी के छा जाने से जवान रोज शहीद हो रहे किसान आत्महत्या कर रहे भूख से बेटियां…
Continue Reading
Uncategorized

ये कैसी आजादी है

दिल्ली की चौखट पे आज, संविधान बना फरियादी है ये कैसी आज़ादी है भाई, ये कैसी आजादी है।। कोई संविधान को जला रहा, कोई नियम अपने चला रहा कोई हक…
Continue Reading
Uncategorized

एक सवाल !

मां की मै नाजों की पाली,  मै पापा  की   लाडली.. उड़ना  चाहूं  दूर   गगन छूना   चाहूं   आसमान चाहूं हिरनी सी भरूं कुलांचे, कभी   मोरनी   चाल    चलूं.. कभी  तितलियों संग…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है