राहुल व्यास: ग्रामीण परिवेश से काव्य मंचों के गौरव तक

0 0
Read Time3 Minute, 32 Second

रश्मिरथी

राहुल व्यास:  ग्रामीण परिवेश से काव्य मंचों के गौरव तक

17554205_1187700807995060_3312143542961885498_n

 डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’

मौत अटल है….

आ तू, ऐसे क्यों खड़ी है,
जिया हूं ज़िन्दगी तो मौत भी एक घड़ी है ।
शाश्वत है सब कुछ तो भी अंजाम जटिल है,
इंतजार सबकुछ नहीं होता, मौत अटल है ।
अब तो सारी दुनिया को एक ही बात कहेंगे ।
अटल थे, अटल है, अटल रहेंगे ।

राहुल व्यास का जन्म 17 दिसंबर 1993 को मध्यप्रदेश के धार जिले में हुआ था । राहुल व्यास ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा राजगढ़ नगर के रत्न राज शिशु मंदिर से प्राप्त की । उनके पिता श्री प्रह्लाद व्यास, म.प्र. वेयर हॉउस में चतुर्थ श्रेणी के पद पर कार्यरत है । उनकी माता श्रीमती चेतना व्यास गृहिणी हैं। बालक उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय से बारहवीं में उनके उत्तीर्ण होने के बाद उनके पिता उन्हें इंजीनियर (अभियंता) बनाना चाहते थे। परन्तु राहुल व्यास का दिमाग इन पढाई से हटकर था । साहित्य के क्षेत्र में आगे बढ़ने के ख्याल से उन्होंने स्नातक किया ।

राहुल व्यास ने अपना करियर मध्यप्रदेश में व्याख्याता के रूप में 2013 मे शुरू किया। तत्पश्चात वो अब तक महाविद्यालयों में अध्यापन कार्य कर रहे हैं। इसके साथ ही राहुल व्यास हिन्दी कविता मंच के सबसे व्यस्ततम कवियों में से हैं। उन्होंने अब तक सेकड़ो कवि-सम्मेलनों में कविता पाठ किया है। साथ ही वह कई पत्रिकाओं में नियमित रूप से लिखते हैं एवं करियर मार्गदर्शन एवं प्रेरक मार्गदर्शक के रूप में कई बड़े-बड़े संस्थानों में अपने व्याख्यान प्रदान करते है। अपनी चित्रकारी की प्रतिभा (अक्षर गणेश) द्वारा भी वे कला के क्षेत्र में भी अपना महत्वपूर्ण योगदान देते है|वर्तमान में वे दूरदर्शन महानिदेशालय दिल्ली में पदस्थ है|साथ ही वी आर फाउंडेशन एवं आरम्भ-आशा की किरण (गैर लाभकारी संसथान) स्वयं चलाते है | विज्ञानं की ओर रूचि होने के कारण लगभग 30 बच्चो को बाल वैज्ञानिक की उपाधि से सम्मुख कराया |

विभिन्न पत्रिकाओं में नियमित रूप से छपने के अलावा राहुल व्यास की दो साझा संग्रा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं- ‘साहित्य सागर ‘ और ‘सत्यम प्रभात ‘ एवं तीन पुस्तके प्रकाशित होना बची है | मार्गदर्शी होने के कारण हर जगह सम्मान की प्राप्ति दी गई |

राहुल व्यास 271px-राहुल_व्यास_
रस – श्रृंगार एवं वीर रस 
अनुभव – लगभग 8 वर्ष से अधिक 
निवास- इंदौर (मध्यप्रदेश )

संपर्क- 09977500466

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कभी न कभी

Tue Dec 11 , 2018
कभी न कभी तो निकल आयेगा हल। ये जो आफते आ रही है  मुस्लसल।। न खटखटा कोई दर,न देख कोई राह उसके दरबार  ,बस तू   नंगे  पाँव चल ।। बीत गया गर आज अच्छा तेरा वक्त ठहर न पायेगा ,ये जो बुरा है पल।। कोशिश तू कर,न बैठ वादो पे […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।