Archives for संस्मरण

अपनी जड़ों को तलाशता भारतवंशी…

शायद आप अभिमन्यु दुधराज की मदद कर सकें। आपके माध्यम से इनकी तलाश पूरी हो सके। वे १८ फरवरी २०१८ को लखनऊ पहुंचेंगे,वहाँ से समय निकालकर अपने पूर्वजों के गांव…
Continue Reading

दिल की डोर और पुस्तक मेले की पतंग

मथुरा से फरीदाबाद और फिर हजरत निजामुद्दीन होते हुए नई दिल्ली रेल्वे स्टेशन पर हुई भोर के एहसास से दिल्ली यात्रा का आरंभ हो गया। अलसुबह ही महरौली दादावाड़ी पहुँचकर…
Continue Reading

सफरनामा

  भाग ४................ मुंबई प्रवास के दौरान कितने ही कलाकारों से रूबरू होने का मौका मिला...बी.आर.स्टूडियो में हर रोज तमाम फिल्मी हस्तियों का आना-जाना लगा रहता था...उनके साथ जुड़े अनगिनत…
Continue Reading

सफरनामा

  भाग-३.................. फिल्म उद्योग में सभी पेशेवर हैं,काम के प्रति समर्पित,समय के पाबन्द। अलग-अलग प्रदेश,अलग-अलग भाषा के लोग कितनी अच्छी समझ के साथ मिलकर काम करते हैं,मुंबई फिल्म उद्योग इसकी मिसाल है। इस…
Continue Reading
Uncategorized

हादसे का सफर

विजयानंद विजय उस दिन मेरी तबीयत ठीक नहीं थी।मगर काम ऐसा था कि उसी दिन जाना भी अत्यावश्यक व अपरिहार्य था।अनमने भाव से मित्र के साथ शाम छः बजे बस…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है