Archives for संस्मरण

Uncategorized

सफरनामा

कसक बीते हुए लम्हों की यादें उस गुलिस्तां की... एक वक्त था जब घर के अहाते के अंदर बागीचे में तरह तरह के पेड़ पौधे हुआ करते थे। अलग अलग…
Continue Reading
Uncategorized

यूँ ही नहीं बन जाता कोई उपन्यास सम्राट !

(व्यक्तित्व/मुंशी प्रेमचंद ) साहित्य की सघन वादियों में कदमों के निशान ऐसे ही नहीं छूटते , बहुत श्रम करना पड़ता है । कालजयी साहित्यकार वही होता है, जिसके कदमों के…
Continue Reading
Uncategorized

“कुछ सपनों के मर जाने से, जीवन नहीं मरा करता है”

संदीप सृजन .......... “नीरज” हिंदी गीतों का वो राजकुमार जिसे सदियों तक भुलाया नहीं जा सकेगा 19 जुलाई को इस दुनिया को अलविदा कह गया । नीरज हिंदी कविता का…
Continue Reading
Uncategorized

नीरज के काव्य में मानववाद : गिरिराजशरण अग्रवाल

नीरज हिदी-कविता के सर्वाधिक विवादास्पद कवि रहे हैं। कोई उन्हें निराश मृत्युवादी कहता है तो कोई उनको अश्वघोष का नवीन संस्करण मानने को तत्पर है, लेकिन जिसने भी नीरज के…
Continue Reading
Uncategorized

यादो मे हमेशा जिंदा रहेंगे गोपाल दास नीरज

हिन्दी साहित्य सेवा के लिए पदम् श्री,पदम भूषण,यश भारती जैसे बड़े सम्मानो से नवाजे जा चुके गोपाल दास नीरज हिन्दी फिल्मो मे दिए अपने गीतो और कवि सम्मेलनों के मंचो…
Continue Reading
Uncategorized

नौकरशाही के बीच दबकर रह गई अमर शहीद जगदीश प्रसाद वत्स की जीवनी

  देश को आजाद कराने के लिए यूं तो असख्ंय राष्टृभक्त वीरो ने अहम भूमिका निभाई थी। इन वीरो ने अपने प्राण न्योछावर करते हुए देश की आजादी का मार्ग…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है