अतुल ज्वाला : हास्य की इंदौरी परिभाषा

5 0
Read Time5 Minute, 0 Second

रश्मिरथी

अतुल ज्वाला : हास्य की इंदौरी परिभाषा

● डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

गम आँसू खामोशी को शर्मिंदा रखने के लिए,
कुछ जगह रखिये हँसीं का परिंदा रखने के लिए ।
उदासी मत सजाइये चेहरे के गुलदान में,
हँसी बहुत जरूरी है खुद को जिंदा रखने के लिए ।
-अतुल ज्वाला

हास्यमेव जयते के सूत्र की जब बात होगी, हिन्दी कवि सम्मेलन मंचों पर हँसी-ठिठोली, व्यंग्य और कविता की जब कहानी लिखी जाएगी, काका हाथरसी और प्रदीप चौबे जी की हास्य कविता की परंपरा के अद्वितीय सिपाही, जिन्होंने डॉ. अशोक चक्रधर, डॉ. सुरेंद्र शर्मा की तरह ही काव्यात्मक हास्य को कविता के मंचों पर आज तक जीवित रखा, ऐसे उम्दा मंचीय हास्य रस के कवि अतुल व्यास जिन्हें जनता अतुल ज्वाला के नाम मे बख़ूबी जानती है।

कवि सम्मेलनों के प्रारंभ के दो ही मुख्य कारण थे, पहला तो उस दौर में जनता के पास मनोरंजन हँसी-ठिठोली के कोई परंपरागत साधन जैसे- टीवी, कम्प्यूटर, मोबाइल जैसे आधुनिक साधन नहीं हुआ करते थे तो लोग मनोरंजन इत्यादि के लिए नाटक, रामलीला सहित कवि सम्मेलन इत्यादि में रुचि लिया करते और दूसरा कारण राष्ट्र जागरण के लिए कविता का उपयोग।

19वीं सदी के दौर में हिन्‍दीभाषियों ने सृजन के प्रति उत्‍साह भी दिखाया और राष्ट्र धर्म व राष्ट्रभाषा के लिए आं‍दोलन भी किया गया। इसी दौरान स्‍थान-स्‍थान पर काव्‍य गोष्ठियाँ होने लगीं। भारतीयों ने इन काव्‍य गोष्ठियों में न केवल अंग्रेज़ी सरकार का विरोध शुरू किया, वरन वे राष्ट्रीय चेतना की संवाहक बन गईं। यानी कि मनोरंजन के लिए कविता का मंच सजने लगा और इसकी प्रतिष्ठा के सापेक्ष ही कवि सम्मेलनों में हास्य कविता का वजूद स्थापित होने लगा।

इन्दौर की रत्नगर्भा धरती ने देश को कई नामचीन साहित्यकार, कवि, खिलाड़ी, गायक-गायिका, चित्रकार इत्यादि दिए हैं, उन्हीं रत्नों की खान से विलक्षण प्रतिभावान कवि अतुल ज्वाला भी देश और दुनिया को दिए हैं। पिता ओमप्रकाश जी व्यास और माता पुष्पा व्यास जी के घर 1 अप्रैल 1978 को एक सुधि पुत्र का जन्म हुआ, जिनका नाम अतुल रखा गया। प्रारंभिक शिक्षा सुखेड़ा गाँव में हुई और महाविद्यालयीन पढ़ाई रतलाम जिले की जावरा तहसील में स्थित भगतसिंह महाविद्यालय से हुई। अतुल ज्वाला ने अंग्रेज़ी और हिन्दी दोनों विषयों में एम.ए. की पढ़ाई की। आपका विवाह रूपीका व्यास जी से हुआ एवं आपके दो पुत्र जागृत एवं प्रद्युम्न हैं। लगभग 2 दशकों की काव्य यात्रा में देश और दुनिया के हज़ारों मंचों पर आपने पैठ भी जमाई है और श्रोताओं की पसन्द के कवि के रूप में अपनी पहचान भी अर्जित की है। श्री ज्वाला जी की एक पुस्तक ‘कलम कुछ कहती है’ प्रकाशित हो चुकी है। अमृतलाल नागर सम्मान लखनऊ, श्रेष्ठ संचालक इत्यादि सम्मान श्री अतुल ज्वाला की उपलब्धियों में उल्लेखित हैं। कुशल मंच संचालक एवं उम्दा हास्य कवि अतुल ज्वाला की रचनाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रहती हैं। वर्तमान में अतुल ज्वाला प्रोडक्शन के माध्यम से लगातार रचनात्मक कार्य जारी हैं। नए प्रतीकों को तरलता से बुनकर कविता को पाठक मन तक पहुँचाने वाले साधक को दुनिया ‘अतुल ज्वाला’ कहती है।

अतुल ज्वाला
रस -हास्य रस
अनुभव – 2 दशकों से अधिक
निवास- इंदौर (मध्यप्रदेश )

matruadmin

Next Post

वीरांगना रानी दुर्गावती

Thu Jun 24 , 2021
शत्रु के लिए तलवार थी प्रजा के लिए पतवार थी । ममता, वात्सल्य की मूर्ति ऐसी रानी दुर्गावती थी ।। वह गढ़मंडल की रानी थी बहादुरी की वह निशानी थी। सशक्त नारी के प्रतिरुप में वह प्रजा की कल्याणी थी ।। बुंदेलखंड जग जानी थी जहाँ दुर्गावती मर्दानी थी। हाथों […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।