Archives for आलोचना

Uncategorized

आतंक के साये में लक्ष्यहीन लोकतंत्र

विश्व के प्रतिष्ठित लोकतांत्रिक देशों में से एक आर्यावर्त ( भारत ) वर्तमान में दिशाविहीन सा प्रतीत होता है क्योंकि शक्तिशाली गणतंत्र के समक्ष अनेकानेक चुनौतियां हैं एवं हम अपनी…
Continue Reading
Uncategorized

बैंकों का घुमावदार सीढ़ियां … !!

तब तक शायद बैंकों का राष्ट्रीयकरण नहीं हुआ था। बचपन के बैक बाल मन में भारी कौतूहल और जिज्ञासा का केंद्र होते थे। अपने क्षेत्र में बैंक का बोर्ड देख…
Continue Reading
Uncategorized

हिंदी अखबारों की भ्रष्ट भाषा

आजकल मैं मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र के कई शहरों और गांवों में घूम रहा हूं। जहां भी रहता हूं,सारे अखबार मंगवाता हूं। मराठी के अखबारों में बहुत कम ऐसे हैं, जो…
Continue Reading
Uncategorized

क्या हम सुस्त जीव हैं…

(इंदौर में एक स्कूल बस हादसे पर) दोस्तों,कोई भी बड़ा हादसा या दुर्घटना होने के बाद कवायदें शुरू होती है कि जिम्मेदार कौन ? ? क्योंकि,इस घटना का ठीकरा किसी…
Continue Reading
Uncategorized

ढोंगी बाबाओं का फैलता मकड़जाल

आस्था के नाम पर पाखंड,ढोंग और आडम्बर का खेल भारत में जारी है। एक ऐसा ही ढोंग का खेल रचने वाला तथाकथित बाबा फिर सुर्खियों में हैं। दिल्ली के रोहिणी…
Continue Reading
Uncategorized

छीन रहे बचपन,भारी होते बस्ते…

वर्तमान में बच्चों के भारी होते बस्तों से सभी त्रस्त हैं, लेकिन प्रतिस्पर्धा और सबसे आगे रहने की चाह में खुलकर कोई भी इसका विरोध नहीं करता हैl न ही…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है