Archives for साक्षात्कार

Uncategorized

लेखन की कशिश से निखर गए डॉ काज़ी

साक्षात्कार- डॉ वासिफ काज़ी के साथ प्रिंस बैरागी का लेखन की कशिश से निखर गए डॉ काज़ी प्रिंस बैरागी एक मुलाक़ात ऐसे शख्स के साथ जिन्होंने हिन्दी-उर्दू समन्वय के साथ…
Continue Reading
Uncategorized

सारी दुनिया में फूलों की बौछार

शहर-दर-शहर ग़ज़ल को लेकर डॉ अर्पण जैन 'अविचल' की 'अहद' प्रकाश से बातचीत   अर्पण: शहर-दर-शहर ग़ज़ल की प्रेरणा आपको कैसे मिली? अहद प्रकाश: डॉ. बशीर बद्र हमारे प्रेरणा स्रोत…
Continue Reading
Uncategorized

एक अल्हड़ दीवाना कवि: राजकुमार कुम्भज

  सहज, सौम्य और सरल जिनका मिजाज है, सबकुछ होते हुए भी फकीराना ठाठ, आजा़द पंछी की तरह गगन को नापना, मजाक और मस्ती की दुनिया से कविता खोजने वाले,…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है