अंधेरे उजाले

Read Time0Seconds

कभी अंधेरों में
रोशनी को ढूँढ़ता हूँ।
तो कभी रोशनी को
अंधरो में खोजता हूँ।
एक दूसरे के बिना
दोनों ही अधूरे से हैं।
इसलिए दीयावाती तेल
दोनों के पूरक हैं।।

जिंदगी के सफर में
कुछ कुछ होता रहता हैं।
कभी जिंदगी में अंधेरा
तो कभी उजाला होता है।
पर इसके बिना जिंदगी
अधूरा अधूरा सा रहता हैं।
यदि जिंदगी में उतार चड़ाव
न हो तो जिंदगी स्थिर है।
और ऐसी जिंदगी बिल्कुल
नीरस जैसी होती है।।

अंधेरो को दूर करने के लिए
दीया को आधार बन के।
रोशनी के लिए तेल वाती
को जलना पड़ता है।
इसलिए जीवन में यारों
लगन मेहनत जरूरी है।
तभी जीवन के अंधेरे में
रोशनी कर सकते हैं।।

जय जिनेंद्र देव
संजय जैन, मुंबई

1 0

matruadmin

Next Post

अवसर में बदलना होगा कोरोना का अनुशासन

Sun Apr 11 , 2021
कोरोना ने पूरी तेजी के साथ पुन: दस्तक दे दी है। चारों ओर त्राहि-त्राहि मची हुई है। पीडितों का हाल बुरा है। सरकारें अपने ढंग से देश को चलाना चाहतीं हैं और डब्ल्यूएचओ अपने ढंग से। सरकारें सत्ता की ललक में निर्णय ले रहीं हैं और डब्ल्यूएचओ किसी के खास […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।