भिखारी

0 0
Read Time2 Minute, 49 Second
kumari archana
फटे-पुराने  कपड़े पहने हुए,
चेहरे पे झुर्रियां छाए हुए..
मुँह  लटकाए हुए,
हाथ में कटोरा पकड़े..
कांख में पोटली दबाए हुए,
माथे पर बदकिस्मती की तकदीर
धारियों में लिखाए हुए,
उल्टी-पुलटी चप्पल पहने..
बेतहाशा सड़कों पे,
तो कभी गली कूचों में..
इधर-उधर चलते-फिरते,
दिखने में साधु लगता..
पर है भिखारी,
उपदेश नहीं,आशीर्वाद देता
बदले में बस थोड़ी भीख…।
दरवाजे-दरवाजे शोर लगाए,
यही कहता बार-बार-
दे दाता के नाम,तुझको अल्ला रखे..
लोग कान में रुई रख लेते,
रोज-रोज के बेटा-बेटी का
बीमारी का बहाना सुनकर..
ऐसे उकता चुके हैं-जैसे,
किसी एक शैली को जीकर…।
क्योंकि,अच्छे-भले लोगों,
जिसको किसी चीज की
कोई न है कमी,
वो पैसे के लालच में..
काम से जी चुराते,
वहीं मार देती है
असली भिखारी के पेट पर लात..
घर्म कहता-पाप कटाओ,गंगा नहाओ,
दान-पुण्य साधु व भिखारी को करो..
सरकार कहती-भीख देना पाप है,
निकम्मे लोगों को इससे
बढ़ावा है मिलता,
इससे बेरोजगारी है बढ़ती..
विकास कार्य पर ज्यादा धन खर्च होता,
अर्थव्स्था की गति धीरे-धीरे होती
दुनिया में भारत की छवि खराब होती…।
देश में घोटालों की सूची है लम्बी,
मंत्रियों का स्विस बैंक में है खाता..
कालाबाजारी करने वालों के
घर है अनाजों से सड़ते,
बाहर भूखे खाने को तरसते..
बेईमानों के यहाँ रजाई बोरे में रूपए,
गरीबों के बिस्तर में रुई भी है कम,
फिर भी सरकार को दिखता कम..
जो विकास के नाम पर पैसे आते,
मिल-बांटकर सब खा जाते..
प्रशासक,भतीजे और
मंत्री मामा नहीं है कम,
देना है तो कोई रोजगार दे दो हमें भी..
जैसे भले-चंगों व दिव्यांगों को मिलता है,
फिर न मांगेंगे हम भिखारी कभी
भीख आपसे मेरे माई-बाप…॥

                                                                                        #कुमारी अर्चना

परिचय: कुमारी अर्चना वर्तमान में राजनीतिक शास्त्र में शोधार्थी है। साथ ही लेखन जारी है यानि विभिन्न पत्र- पत्रिकाओं में निरंतर लिखती हैं। आप बिहार के जिला हरिश्चन्द्रपुर(पूर्णियाँ) की निवासी हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कवि

Fri Jul 21 , 2017
दिल के दो टुकड़े होते ही नहीं फूटने लगती शब्दों की अविरल धारा और न ही प्रेम के दो छंद लिखते ही बन सका कवि कोई जियो एक कायरों-सी ज़िन्दगी चुपचाप मत करो प्रतिशोध किसी बात का घुटते रहो भीतर तक समेटो अंतर्मन में हर पीड़ा। जीवन के सुन्दर स्वप्न […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।