बच्चो को सही शिक्षा की दिशा दे 

Read Time6Seconds
sanjay
माँ बाप का परम कर्तव्य बनता है की वो अपने बच्चो को सही तालीम के साथ संस्कार और ज्ञान दे, ताकि आने वाले समय में उन्हें अपने पैरो पर खड़ा होने के लिए कोई परेशानियो का सामना न करना पड़े /दोस्तों आज की शिक्षा व्यवस्था हमारी आने वाली पीढ़ी को पंगु बना रही है।आज दसवीं से पहले 9वी तक के छात्रों की एग्जाम व्यवस्था को खत्म कर दिया गया है, जिसके कारण शिक्षा का स्तर अब निरंतर गिरता जा रहा है / सरकार ये दबा अब जरूर कर रही है, की देश का हर नागरिक शिक्षित है परन्तु हकीकत कुछ और ही है / जो की एक भ्रहम ही पैदा करता है ? क्योकि हमने तो १ से ९ तक को सिर्फ पास करके ये बताया है ,की सभी लोग कम से कम  ९ तक पड़े है , भले ही उन्हें पांचवी कक्षा का ज्ञान न हो, परन्तु हमारी शिक्षा प्रणाली ने उन्हें ९वी का प्रमाण पत्र बिना कुछ किये ही प्रदान कर दिया / क्या  इस तरह की व्यवस्था से देश और समाज का भला होने वाला है ?  इसी संदर्भ में सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता सत्येंद्र दुबे जी के लेख की ओर आप सभी का ध्यान दिलाना चाहूंगा और इसे अवश्य ही अपना बहुमूल्य समय में से  2 मिनट का समय निकाल कर इसे अवश्य पढिये … और चिंतन कीजिये.. क्या जो कुछ भी हमारे देश की शिक्षा व्यवस्था का जो चल रहा है क्या वो सही है या नहीं /इसके लिए एक छोटा द्रष्टान दिया है दुबे जी ने वो हम आपको बताना चाहते है/ जिससे इस बात को समझा जा सकता है /
प्रकृति ने सभी पंछियों की संरचना लगभग एक जैसी बनाई दो पैर दो पंजे चार से पांच अंगुलियों गर्दन और दो पंख ऐसा कोई पंछी नहीं है जिसके चार पंख होते हैं!!!
लेकिन इन सबसे अलग हटकर एक नया मुकाम हासिल किया बाज नामक पक्षी ने जिसे हम ईगल या शाहीन भी कहते हैं जिस उम्र में बाकी परिंदों के बच्चे चिचियाना सीखते हैं उस उम्र में एक मादा बाज अपने चूजे को पंजे मे दबोच कर सबसे ऊंचा उड़ जाती है ध्यान रहे पक्षियों की दुनिया में ऐसी Tough and tight training किसी और की नही होती।
गणित यानी चाल दूरी और वेग के दृष्टिकोण से देखें तो मादा बाज अपने चूजे को लेकर लगभग 12 किलोमीटर (A highest distance from earth where a natural creature can fly) ऊपर ले जाती है। हमारी आपकी “सोच” से बहुत ऊपर जितने ऊपर अमूमन जहाज उड़ा करते हैं और वह दूरी तय करने में मादा बाज 7 से 9 मिनट का समय लेती है।
उस मुकाम पर पहुंचकर वह एक परिस्थिति में स्थिर हो जाती है!!!!! और फिर यहां से शुरू होती है उस नन्हें चूजे की “कठिन परीक्षा” उसे अब यहां बताया जाएगा कि तू किस लिए पैदा हुआ है!!
तेरी दुनिया क्या है तेरी ऊंचाई क्या है तेरा धर्म बहुत ऊंचा है और फिर मादा बाज उसे अपने पंजों से छोड़ देती है…….
धरती की ओर ऊपर से नीचे आते वक्त लगभग 2 किलोमीटर उस चूजे को हवा नहीं होती कि उसके साथ क्या हो रहा है 7 किलोमीटर के अंतराल के आने के बाद उस चूजे के पंख जो कंजाइन से जकड़े होते हैं वह खुलने लगते हैं…..
लगभग 9 किलोमीटर आने के बाद उनके पंख पूरे खुल जाते हैं यह जीवन का पहला दौर होता है जब बाज का बच्चा पंख फड़फड़ाता है…
अब धरती से वह लगभग 3000 मीटर दूर है लेकिन अभी वह उड़ना नहीं सीख पाया है, अब बिल्कुल करीब आता है धरती के जहां से वह देख सकता है उसके स्वामित्व को अब उसकी दूरी धरती से बचती है महज 7 से 800 मीटर लेकिन उसका पंख अभी इतना मजबूत नहीं हुआ है की वो उड़ सके।
धरती से लगभग 4 से 500 मीटर दूरी पर उसे अब लगता है कि उसके जीवन की शायद अंतिम यात्रा है फिर अचानक से एक पंजा उसे आकर अपनी गिरफ्त मे लेता है और अपने पंखों के दरमियान समा लेता है।
यह पंजा उसकी मां का था जो ठीक उसके उपर चिपक कर उड़ रही थी….. और यह बाज के चूजे की पहली ट्रेनिंग थी और ये निरंतर चलती रहती है जब तक कि उसका बच्चा उड़ना नहीं सीख जाता…./
ये ट्रेनिंग बिल्कुल एक कमांडो की तरह होती है High pressure and maximum risk… तब जाकर दुनिया को एक शाहीन/बाज़ मिलता है जो वायु की दुनिया का अघोषित बादशाह कहा जाता है । फिर एक समय आता है जब शाहीन अपने से दस गुना अधिक वजनी प्राणी का शिकार करता है…..
हिंदी मे एक कहावत है  “बाज़ के बच्चे मुंगेर पर नही उड़ते”
अपनों बच्चों को चिपका कर रखिए पर एक शाहीन की तरह उन्हें दुनियां की मुश्किलों से रूबरू कराइए…/
उन्हे लड़ना सिखाइए बिना आवश्यकता के संघर्ष करना सिखाइए……/
और यदि समय रहते आपने इस ओर ध्यान नहीं दिया तो आपके बच्चे एक दम अपने आप को आने वाले समय में असहाय मेहसूस  करेंगे और रोयेंगे उस समय के लिए और उन लोगो की व्यवस्था के लिए जिन्होंने ये निन्दनिये  कार्य किया है /  जब पक्षी और बन के प्राणी संघर्ष करके मुकाम को हासिल करते है / जिनको तो पढ़ने लिखने का ज्ञान नहीं होता परन्तु वो सांसारिकता की व्यवहारिकता को समझते है और अपने अनुसार ज्ञान  को धारण करते है / और हम मनुष्य जिनको प्रकृति ने सब कुछ दिया है फिर भी हम…… सही गलत का आकलन नहीं कर पाते और पंछी इसे सही रूप से अपनाते है ।
 ये टीवी के रियलिटी शो और अंग्रेजी स्कूल के बसों ने मिल कर आप के बच्चों को बाॅइलर मुर्गे जैसा बना दिया है / जिसके पास मजबूत टंगड़ी तो है पर चल नही सकता, वजनदार पंख तो है ,पर उड़ नही सकता……
पंख तो सड़क के किनारे कटने वाले मुर्गों के भी देती है प्रकृति !
 यदि इस तरह की व्यवस्थाएं हमारे देश में बिना पढ़े  लिखे उन्हें आगे बढ़ाते गए तो क्या हाल होना / आने वाले समय में ये बात बहुत ही सोचनी है की  आपके बच्चे क्या कर सकेंगे / अब फैसला करिए आपके बच्चे क्या बनेंगे??

#संजय जैन

परिचय : संजय जैन वर्तमान में मुम्बई में कार्यरत हैं पर रहने वाले बीना (मध्यप्रदेश) के ही हैं। करीब 24 वर्ष से बम्बई में पब्लिक लिमिटेड कंपनी में मैनेजर के पद पर कार्यरत श्री जैन शौक से लेखन में सक्रिय हैं और इनकी रचनाएं बहुत सारे अखबारों-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहती हैं।ये अपनी लेखनी का जौहर कई मंचों  पर भी दिखा चुके हैं। इसी प्रतिभा से  कई सामाजिक संस्थाओं द्वारा इन्हें  सम्मानित किया जा चुका है। मुम्बई के नवभारत टाईम्स में ब्लॉग भी लिखते हैं। मास्टर ऑफ़ कॉमर्स की  शैक्षणिक योग्यता रखने वाले संजय जैन कॊ लेख,कविताएं और गीत आदि लिखने का बहुत शौक है,जबकि लिखने-पढ़ने के ज़रिए सामाजिक गतिविधियों में भी हमेशा सक्रिय रहते हैं।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मैं सोचती हूं

Thu Dec 6 , 2018
“मैं सोचती हूं,, सो गये हैं भाव सारे और जिम्मेदारियाँ भी सो गया परिवार।। घुप्प सन्नाटे भरे इस मौन में,, कुछ पल जरा सो लूं, कुछ स्वप्न मैं बुन लूं, हाँ मगर था जग रहा कुछ अनकहा मेरे हृदय में,, मैं जिसे समझी थी ठंडी बर्फ़ है बस।। वो पिघलती […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।