Archives for संस्कार

Uncategorized

है कोई नीलकंठ! जो दे स्त्री को सम्मान

आखिर भारतीय सेना में महिलाओं को युद्ध में कंधे से कंधा मिलाकर लड़ने की अनुमति मिल गई,ये खबर जब पढ़ी तो उन महिलाओं का जीवन और संघर्ष याद आ गया,…
Continue Reading
आलोचना

माँ-बाप बुढ़ापे में बोझ क्यों ?

बेटा अपने वृद्ध पिता को रात्रि भोज के लिए अच्छे रेस्टॉरेंट में लेकर गया। खाने के दौरान वृद्ध पिता ने कई बार भोजन अपने कपड़ों पर गिराया। रेस्टॉरेंट में बैठे…
Continue Reading
Uncategorized

नारी…

स्नेह की धारा है वह, है वात्सल्य की मूर्ति , वीरुध वही,वन वही, कालिका की वो पूर्ति | राष्ट्र,समाज और परिवार को वो समर्पित, स्व पर,हित को करती प्राण भी…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है