Archives for समाज

Uncategorized

गृहस्थ जीवन और परमात्मा

            "देखो इस तपस्या से ईश्वर को पाकर ,  निश्छल स्वभाव से गृहस्थ जीवन में आकर"  विश्वास है ईश्वर को पाने के लिए कठिन तपस्या…
Continue Reading
Uncategorized

रंग

 समाज हमेसा से दो भागों में बंटा रहा है ,एक अच्छे लोगो मे दूसरा अच्छेपन का दिखावा करने वाले लोगो मे । समाज हमेसा दोहरे मापदंड तय करता है ,और…
Continue Reading
Uncategorized

माँ बाप को बच्चे समझे 

आज कल के बच्चे सिर्फ चकाचौंध पर ज्यादा ध्यान देते है । वर्तमान समय में सिर्फ एक ही चीज पर लोग ज्यादा ध्यान क्रेंद्रित करते है, और वो है दिखा…
Continue Reading
Uncategorized

आधुनिकता की चकाचौंध में संस्कारों का “अन्तिम-संस्कार”

विश्व में भारत एकमात्र ऐसा देश है जहाँ सभी धर्मो को मानने वाले लोगों का बसेरा है एवं सभी जातियों व संप्रदायों के अनुयायी यहाँ निवासरत है। भारत देश प्राचीनकाल…
Continue Reading
Uncategorized

​​पिता के लिए बेटी क्या होती है

 पापा मैने आपके लिए हलवा बनाया है 11 साल की बेटी बोली  अपने पिता से बोली जो की अभी ऑफिस से घर में पहुंचे ही थे  पिता - वाह क्या…
Continue Reading
Uncategorized

नारी जीवन के इंद्रधनुष का आकाश है महादेवी का सृजन

सम्वेदनाओं का ज्वार यदि कविता का द्वार पा जाए तो उसकी अभिव्यक्ति व्यष्टि से समष्टि की ओर हो जाती है। जब भी मानव मात्र अपने मन के उहापोह ,अंतर्द्वंद ,अचेतन…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है