एक कविता ऐसी भी……..

0 0
Read Time2 Minute, 56 Second
pinki paturi
 माँ, मैं कुछ कह रही हूँ,
 क्या ,तुम सुन रही हो ?                                                                                                                                                                                                                                                                तुम चाहती हो मैं,                                                                                                                                                                                                                                                                            पढ़ूँ लिखूँ,
 आगे बढ़ूँ,
 नौकरी करूँ,
 पैसा कमाऊँ,
 नाम भी कमाऊँ।
 ताकि ,तुम शान से कह सको:
 कि, यह “मेरी बेटी है”।
 सुनो माँ,
 तुम घर में रहती हो,
 क्या ,कभी यह सोचती हो,
 बाहर घर के निकलती हैं,
 जब तुम्हारी बेटियाँ।
 नज़रें गढ़ी होती हैं,
 हैवानों की,
 भेड़ियों की,
 राक्षसों की।
 जिस्म पर,
 इज्जत पर,
 अस्मत पर,
 बदन पर,
 सच पूछो तो,
 एक-एक अंग पर।
 नोच डालते हैं,
 कुरेद डालते हैं,
 जला डालते हैं,
 बेच डालते हैं,
 तुम्हारी आन बान और शान को,
 माँ,
 वो भेड़िए,
 माँ यह सब रोज होता है,
 हर पल होता है,
 क्यों नहीं सिखाती,
 तुम मुझे,
 ताकतवर बनो!
 जवाब दो!
 लड़ो!
 कुचल डालो!
 बदल डालो!
 नोच डालो!
 खत्म कर दो!
 हाँ माँ, मैं पल-पल,
 आबरु के साथ,
 कैसे खेलने दूँ?
 कैसे सहन करूँ?
 घिनौनी निगाहों को,
 दरिंदगी को,
 वहशीपन को,
 माँ,
 मैं चाहती हूँ,
 लड़ना,
 बदलना,
 जीतना,
 स्वयं को भी समाज को भी,
 अपनी बुद्धि और बल से,
 इज्ज़त के साथ।
 माँ मेरी मदद करना,
 मुझे तुम्हारी जरूरत है।
#पिंकी परुथी ‘अनामिका’ 
परिचय: पिंकी परुथी ‘अनामिका’ राजस्थान राज्य के शहर बारां में रहती हैं। आपने उज्जैन से इलेक्ट्रिकल में बी.ई.की शिक्षा ली है। ४७ वर्षीय श्रीमति परुथी का जन्म स्थान उज्जैन ही है। गृहिणी हैं और गीत,गज़ल,भक्ति गीत सहित कविता,छंद,बाल कविता आदि लिखती हैं। आपकी रचनाएँ बारां और भोपाल में अक्सर प्रकाशित होती रहती हैं। पिंकी परुथी ने १९९२ में विवाह के बाद दिल्ली में कुछ समय व्याख्याता के रुप में नौकरी भी की है। बचपन से ही कलात्मक रुचियां होने से कला,संगीत, नृत्य,नाटक तथा निबंध लेखन आदि स्पर्धाओं में भाग लेकर पुरस्कृत होती रही हैं। दोनों बच्चों के पढ़ाई के लिए बाहर जाने के बाद सालभर पहले एक मित्र के कहने पर लिखना शुरु किया था,जो जारी है। लगभग 100 से ज्यादा कविताएं लिखी हैं। आपकी रचनाओं में आध्यात्म,ईश्वर भक्ति,नारी शक्ति साहस,धनात्मक-दृष्टिकोण शामिल हैं। कभी-कभी आसपास के वातावरण, किसी की परेशानी,प्रकृति और त्योहारों को भी लेखनी से छूती हैं।

Arpan Jain

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कविता तुम कहाँ हो

Tue Feb 27 , 2018
कविता तुम कहाँ हो कवि के हृदय में या कागज के पन्नों पर या मन की संवेदना में या ऊष्मित होती वेदना में या बालाओं के रूदन में या उद्वेगों के क्रन्दन में । बताओ हो किसी के स्मृतियों में या नायिकाओं के विरहगान में या छिपे हो सुर-ताल में […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।