*साहित्य*  :- भारतीय साहित्य विश्व की प्राचीनतम साहित्य में से एक है। पहले साहित्य को गाकर सुनाया जाता था। फिर धीरे-धीरे गायन से लिखित रूप में इस का उद्भव और विकास हुआ । साहित्य की प्रारंभिक कृतियां गीत एवं छंद के रूप में होती थी ।और यह धीरे-धीरे बदलता गया […]

हर रोज़ मौत होती है, ज़मीर की, इंसानियत की, रिश्तों की, हर रोज़ मौत होती है, मासूमियत की, नैतिकता की, मूल्यों की, हर रोज़ मौत होती है, बचपन की,                            जवानी की, बुढ़ापे की, हर रोज़ मौत होती है, हौंसलों की, उड़ान की, इच्छाओं की, हर रोज़ मौत होती है, धर्म […]

पिंकी परूथी “अनामिका”एक ऐसा नाम, जो जितना सौम्य व्यक्तित्व है , उतना ही सहज और ज़हीन भी । समर्पित भी और सहयोगी भी । अंतरा शब्द शक्ति प्रकाशन से प्रकाशित , उनकी नई कविता की पुस्तक “मैं आल्हादिनी ” पढ़कर मन प्रमुदित है । बेहद कम समय में भावों का […]

 *मन मेरा, मेरा दर्पण*  कितने सच  और  कितने झूठ  छिपा रखे हैं  तन में  मन में  ना तू जाने  ना वो जाने  जाने केवल उसको  मैं और मेरा मन  *मन मेरा, मेरा दर्पण*  ************************  भले कर्म  और  बुरे कर्म  का पूरा हिसाब  लिखा रखा है  ना तू देखे  ना वो […]

जब भी हम किसी काम में असफल होते हैं तो हमेशा से ही,अपने बड़ों से सुनते आए हैं कि,-`हिम्मत रखो,फिर से कोशिश करो,सफलता जरूर मिलेगी`,लेकिन आज के बच्चे बेचारे,उतने सफल नहीं हो पाते जितनी वो मेहनत करते हैं। सबसे बड़ा कारण आरक्षण नीति है। कोई विवाद न हो, इसलिए यह […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।