गाली’ एक वाचिक बलात्कार

0 0
Read Time2 Minute, 52 Second

एक छोटे से शब्द गाली से घृणा होती है मुझे, जब दो व्यक्तियों के बीच झगड़ा होता है या किसी व्यक्ति को जब किसी दूसरे व्यक्ति पर क्रोध आता है तो वह गालियाँ देकर अपना क्रोध शांत करता है,मैंने सभ्य और संस्कारी पुरूषों को भी माँ बहिनों पर गंदी गालियां बकते हुए देखी हूँ, जहाँ पर हम स्त्रियों के सम्मान की बात करते हैं तो सबसे पहले तो यहाँ पर सम्मान की जरूरत है,स्त्रियों को सार्वजनिक स्थानों पर गालियों से अपमानित करते हुए शर्म आनी चाहिए, यह तो एक प्रकार से बलात्कार ही है वाचित बलात्कार यह सोचकर ही इस सभ्य समाज की सभ्यता से घृणा होती है मुझे ,क्या स्त्री को अपनी गाली मे लाये बिना उनकी बात अधूरी रहती है? जिन शब्दों को अपनी लेखनी से लिखने में अपमान लग रहा है जरा सोचिए कि उन शब्दों को सुनकर उन स्त्रियों को कैसा महसूस होता होगा, यह भाषिक बलात्कार बंद होना चाहिए जो हमारे घरों में ,हमारे आस पडोस मे अक्सर होते रहता है अरे!कुछ तो मनुष्यता होनी चाहिए एक स्त्री की कोख से जन्म लिया है, एक स्त्री ने ही जीवन संगिनी बनकर उनके जीवन को संवारा है और तुम पुरूष बनकर उसी स्त्री को अपमानित कर रहे हो ,एक पिता के सामने उसका बेटा माँ बहिन की गाली बकता है फिर भी पिता को कुछ गलत नहीं लगता क्योंकि वह भी इन शब्दों का प्रयोग करता है मतलब किसी और की बहिन बेटी माँ के प्रति हमारे शब्दों में अपमान करना हमारे संस्कार ही बन गए हैं जो हम अपने बच्चों को भी विरासत में दे रहे हैं, समाज के सभी सभ्य पुरूषों को इस बिषय मे विचार जरूर करना चाहिए, सभी धर्मों से इन गालियों को व्यसन मानकर त्याग कराया जाना चाहिए ,सिखाया जाना चाहिए कि यह बहुत ही गलत है ,सभी स्त्रियों से मेरी अपील है कि हमें अपना सम्मान वापिस माँगना चाहिए ,दैहिक बलात्कार से बचाव तभी संभव होगा जब भाषित बलात्कार से हम स्त्रियों की सुरक्षा होगी,

मीना विवेक जैन
वारासिवनी, मध्यप्रदेश

matruadmin

Next Post

हिंदी के साथ अन्य भारतीय भाषाओं में इंजीनियरिंग की पढ़ाई

Fri Aug 6 , 2021
सराहनीय है पहल : पर कैसे होगी सफल ? जर्मनी, रूस, फ्रांस, जापान और चीन सहित दुनिया के दर्जनों देशों में पूरी शिक्षा ही स्थानीय भाषाओं में दी जाती है। हाल ही में देश में आई नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में भी स्थानीय भारतीय भाषाओं में पढ़ाई पर जोर दिया […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।