लोकतंत्र और महात्मा गाँधी

0 0
Read Time3 Minute, 0 Second


महात्मा गाँधी के विचार लोकतंत्र के लिए एक रीड के समान थे | गांधीजी ने उस समय ये विचार पूरी शक्ति से अंग्रेजो के सामने रखे की भारत को लोकतंत्र के रूप में ही चलाया जा सकता है और किसी भी हुकूमत को भारत की जनता मानने को तैयार नहीं है | वे मानते थे की लोकतंत्र में ही इतने बड़े देश को चलाया जा सकता है |उनका मानना था की लोकतंत्र की आत्मा कोई यांत्रिक यंत्र नहीं है जिसे उन्मूलन के द्वारा समायोजित किया जा सके | इसके लिये हृदय् के परिवर्तन की आवश्यकता है, भईचारे की भावना को बढाने की आवश्यकता है | यही कारण था भारत गणराज्य में सविधान को मूल में रखकर देश का संचालन गांधीजी द्वारा आगे बढाया गया |गांधीजी के से विचार आज के सन्दर्भ में एकदम सही लगते है । अक्सर ये देखा गया है कि संसदीय प्रजातंत्र में पार्टी और दल की राजनीति कार्य करती है, जिसमें जनता के प्रतिनिधि होते हैं परन्तु वास्तव में उसकी समर्पण और निष्ठा खुद के परिवार या अपनी पार्टी तक ही सीमित रहती है। जनता के कल्याण से उनका कोई लेना देना ही नहीं रहता । जो जिस पार्टी का आदमी होता है उसी को आँख मूंद कर वोट कर देता है, अथवा देने को मजबूर है। कोई इस नियम का अपवाद बन जाए तो समझ लीजिए कि उसकी सदस्यता के दिन पूरे हो गए। जितना समय और पैसा संसद बरबाद करती है उतना समय और पैसा थोडे से भले आदमियों को सौंप दिया जाय तो उद्वार हो जाय । आज के सन्दर्भ मे गाँधी के उपर्युक्त विचार सत्य प्रतीत होते हैं। निःसन्देह थोपा गया लोकतंत्र कभी भी स्थायी और सफल नहीं हो सकता । जब तक जनता स्वयं लोकतान्त्रिक भावना की आत्मानुभूति नहीं कर लेती, लेाकतंत्र केा प्रबल समर्थन नहीं मिल सकता। केवल निर्वाचन में खडा होने या मत देने के अधिकार से ही लोकतंत्र की सफलता को मापा नहीं जा सकता। अक्सर निर्वाचन के समय मतदाताओं की उदासीनता देखी गई है| लोकतंत्र के बारे में इतनी स्पस्ट राय गांधीजी ही रख सकते थे | आज के समय में गांधी जी के लोकतंत्र के सिद्धांतो को अपनाने की जरूरत है |

#राजेश भंडारी “बाबू”

इंदौर(मध्यप्रदेश)

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

माँ की अंधी ममता

Mon Sep 30 , 2019
इक माँ ने जन्म दिया, इक नन्हे राज दुलारे को। प्यार स्नेह और संस्कार से सींचा, अपनी आँख के तारे को। न जाने कौन सी कमी रह गई, उसे नेकदिल बनाने में। घात लगाएँ बैठा था वो, अपने अन्दर शैतान जगाने को। कैसे हाथ लगाया उसने, मासूम लड़कियों के जिस्म […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।