हज़ारों दर्दो-ग़म के दरम्यां हम थे

0 0
Read Time50 Second

हज़ारों दर्दो-ग़म के दरम्यां हम थे
जहाँ में अब कहाँ हैं कल कहाँ हम थे।

अभी हालात से मज़बूर हैं लेकिन
तुम्हारी जिंदगी की दास्ताँ हम थे।

तुम्हारी बदज़ुबानी चुभ रही लेकिन
तुम्हारे होठ पर सीरी जुबां हम थे।

ये तख़्तों ताज दुनियाँ में भला कब तक
मुहब्बत ज़ीस्त है सोचो कहाँ हम थे।

मुहब्बत खो गई है नफ़रतों की भीड़ में
वो बढ़ते भाई चारे का गुमाँ हम थे।

कहीं नफ़रत कहीं उल्फ़त कही धोखा
कहीं जलते हुए घर बेजुबां हम थे।

कुचल डाला है जिसको वक्त बेदिल ने
ज़मीं हैं आज लेकिन आसमां हम थे

आकिब जावेद
बाँदा,उत्तर प्रदेश

matruadmin

Next Post

आत्महत्या के विरुद्ध

Tue May 25 , 2021
सूरज अपनी रोशनी समेट रहा था, चांद आसमान को फाड़ कर बाहर निकल रहा था आसमान पहले से भी ज्यादा गहराता जा रहा था धुंध बेबजह घरो से निकल कर भाग रही थी कुत्ते आज भौंकने की जगह दहाड़ रहे थे वो दफ़्तर से निकला आदमी नींद की गोली की […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।