हम

2 0
Read Time8 Minute, 49 Second

हम महक बिखेरते
गहरे अर्थों में निहित हैं,
हमें मात्र शब्दों में
ढूंढ न पाओगे कभी,
अहसास क्षितिज के ठीक….
बीचो-बीच बसते हैं
हमारे मानवतावादी प्राण।
मिलते,हिलते,खिलते,
पलते ,जलते,उखड़ते
नैन,मन,तन,सघन।
अफ़साने,अनजाने,
पहचाने सजे हंसते
टूटते बिखरते,
सिमटते,झकझोरते
स्वयं को निचोड़ते….
मन बुनता आठो पहर..
अधबुने स्वेटर से ख़्वाब
जिसके फंदे जगह-जगह से
उधड़ते ही रहते..
स्वेटर रह जाता अपूर्ण,
जीवन के सँकरे पथ पर
मिलता भी तो….
कच्चे गर्भ सा विश्वास
जैसे अब गिरा-अब गिरा
एक असहनीय पीड़ा के बाद
प्रेम शिशु समाप्त।

डॉ.यासमीन मूमल

मेरठ

परिचय

नाम– डॉ.यासमीन ख़ान
पिता का नाम– इशारत ख़ान
माता का नाम– कुरेशा बेगम

उपाधियां:- पोस्ट डॉक्ट्रेट. राजनितिक विज्ञान(अखिल भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद् दिल्ली)
पीअच् .डी. हिंदी, बी.एड,
आई. जी. डी.बोम्बे (ड्राइंग), अदीब,माहिर,कामिल,मोल्लिम,मुंशी(उर्दू)
संस्कृत सम्भाषण कोर्स।
////////////////////////////////

पाँच वर्ष कॉलिज में हिंदी अध्यापन कार्य किया।
समाज सेवक के तौर पर पौंढ़ शिक्षा कार्यक्रम में किठौर (मेरठ) क्षेत्र की वार्ड प्रभारी के रूप में कार्य किया।
संस्कृत सम्भाषण निःशुल्क बाल केंद्र चलाये।
जाति,धर्म की नफ़रतें मिटाकर प्रेम भाईचारा फैलाने के लिये भारतीय समता समाज पार्टी में रहकर विशेष कार्य कर रही हैं।
राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय विभिन्न प्रतिष्ठित मंचो से काव्य पाठ।
राष्ट्रीय,अंतराष्ट्रीय पत्र,पत्रिकाओं में 300 से अधिक रचनाएँ प्रकाशित।
राष्ट्रीय ,अंतराष्ट्रीय संगोष्ठियों में 70 से अधिक शोध पत्र प्रस्तुतिकरण , प्रकाशन।

विधाएँ- लेख ,समीक्षा,शोधपत्र , दोहा, चौपाई, क़ता, क्षणिका, हाइकु, ग़ज़ल , गीत, मुक्त-छंद, तुकांत।

प्राप्त सम्मान–
1- सारस्वत सम्मान 2003 (कविकुल संस्था प्रतापगढ़)
2- तुलसी सम्मान 2013 (तुलसी अकादमी भोपाल)
3- साहित्य गौरव सम्मान 2015(शैल साहित्यिक संस्थान प्रतापगढ़)
4- सारस्वत तथागत् सृजन सम्मान 2016(सिद्धार्थ तथागत् कला साहित्य संस्थान सिद्धार्थ नगर)
5- शाइनिंग डायमण्ड अवार्ड-2016(प्रतिमा रक्षा समिती करनाल।
6- शिक्षा गौरव सम्मान 2016-(अखिल भारतीय अगीत परिषद लखनऊ)
7- सरस्वती साहित्य सम्मान 2016-*अहिन्दी भाषी हिंदी लेखक संघ दिल्ली)
8- सृजन साधना सम्मान-2016(नव सृजन संस्था लखनऊ)
9 – साहित्य शिरोमणि सम्मान 2016(विक्रमशिला विद्यापीठ भागलपुर बिहार)
10- साहित्य दीप सम्मान 2017(सद्गुरु लोक सेवा कल्याण समिति सुल्तानपुर)
11- स्व.दुर्गा प्रसाद स्मृति सम्मान 2017 (संकल्पना साहित्यिक,सांस्कृतिक सामाजिक संस्था प्रतापगढ़)
12- वरिष्ठ काव्य प्रतिभा सम्मान 2017(पांचवां सोशियल मीडिया सम्मेलन हम सब साथ साथ हैं ,अयोध्या फैज़ाबाद)
13- शिक्षा गौरव सम्मान-(अखिल भारतीय अगीत परिषद लखनऊ)
14- हिंदी गौरव सम्मान 2017(सरिता लोक सेवा संस्थान सुल्तानपुर)
15- हिंदी काव्य रत्न सम्मान 2017(अंतर्राष्ट्रीय साहित्य सम्मान समारोह श्री गोविन्द हिंदी साहित्य समिति यू.पी.)
16- हिन्द रत्न सम्मान 2017-(सवेरा एसोसिएशन दिल्ली)
17- सारस्वत काव्य सम्मान-(कार्यालय वरिष्ठ अधीक्षक आदर्श कारागार लखनऊ)
18- काव्य प्रशस्ति पत्र-राष्ट्रीय महिला कविता प्रतियोगिता (पहल, ग्रीन अर्थ संस्था हरियाणा कुरुक्षेत्र
19–समाज भूषण सम्मान 2017- (भरतीय विधि अकादमी)
20- साहित्य श्री सम्मान 2017-(श्री भारतेंदु समिति कोटा राजस्थान)
21- साहित्य वारिधि -डी. लिट्, मानद-( साहित्य कला संगम अकादमी उत्तर प्रदेश )
22–एशिया सामाजिक,सांस्कृतिक सम्मान 2017( अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार संस्थान सतारा महारष्ट्र)
23-काव्य मनीषी सम्मान 2017– (शैल साहित्यिक संस्थान उत्तर प्रदेश)
24– सारस्वत तथागत अंतर्राष्ट्रीय सृजन सम्मान 2017( तथागत साहित्य कला संस्थान सिद्धार्थनगर उत्तर प्रदेश)
25–साहित्य स्वर्ण स्तम्भ सम्मान 2017–(ग्वालियर साहित्य कला परिषद मध्य प्रदेश)
26- कीर्ति चौधरी स्मृति सम्मान 2017–(के.बी.हिंदी साहित्य समिति बदायूं)
27–शिक्षा शिरोमणि सम्मान 2017–(अखिल भारतीय विधि अकादमी उत्तर प्रदेश)
28— पैग़ाम-ए-हिन्द सम्मान 2017–( अखिल भारतीय कविसम्मेलन एवं मुशायरा ,पड़ारकर भवन,मैदागिन, वाराणसी )
29–‘ कुशलचन्द जैनजी स्मृति सम्मान’ 2018 पाँच हज़ार एक सौ रुपये सहित। -( साहित्य मण्डल नाथद्वारा राजस्थान)
30— सारस्वत सम्मान- बज़्म-ए-शाहीन’ दैनिक सियासत समाचार पत्र’मेरठ
31–राष्ट्रीय महिला सम्मान 2018 (साकार महिला कल्याण समिति जयपुर राजस्थान)
32–नेशनल डायमंड अचीवर्स अवार्ड 2018 *यूथ वर्ड बिकानेर राजस्थान)
33– तुलसी साहित्य सम्मान ।2018( म.प्र.तुलसी साहित्य अकादमी)
34–अंतर्राष्ट्रीय साहित्य युवा प्रतिभा सम्मान 2018(दूतावास काठमांडू नेपाल, हम सब साथ साथ हैं, भाईचारा संस्थान)
35 – डॉ. एस. एन. सुब्बाराव सम्मान 2018-हिंदी प्रचार,प्रसार के उत्कृष्ट योगदान हेतू डॉ. एस. एन सुब्बाराव सम्मान (डॉ. एस. एन. सुब्बाराव फाउंडेशन।)
36— अंतर्राष्ट्रीय ज्ञान रत्न सम्मान 2018 ( वीर भाषा हिंदी पीठ मुरादाबाद)
37–कला रत्न सम्मान 2018( अग्निपथ कला साहित्य संस्थान (दिल्ली)
38– साहित्य रथी सम्मान 2018 (विश्व हिंदी साहित्य परिषद कनाडा)
39– सावित्रीबाई फूले सम्मान 2019
40–विश्व मैत्री मंच की ओर से 8 दिवसीय साहित्य कार्यक्रम में उज्बेकिस्तान में भागीदारी।

प्रकाशित पुस्तक-
1-जुगलबन्दी काव्य पुस्तक
2-जीवन के सुर काव्य संग्रह
3- महक अभी बाक़ी है काव्य संग्रह
4- सम्वेदना के स्वर काव्य संग्रह
5–भारत नेपाल काव्य सेतू’ काव्य संग्रह ‘साँझा’
6–भावों के मोती’काव्य संग्रह ‘साँझा’
शीघ्र प्रकाश्य- कशिश ग़ज़ल संग्रह।

matruadmin

Next Post

मित्र का अपने जीवन में क्या महत्व होता है?

Mon Mar 16 , 2020
इंदु भूषण बाली Post Views: 81

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।