आज यूं ही बैठे -बैठे जैसे अतीत की यादों में खो गई थी “कुमोद”

0 0
Read Time3 Minute, 3 Second
bharti vikas preeti
 
बस मोबाइल में टक-टकी लगाए इस डिजिटल की दुनियां में पोते-पोतियों का चेहरा तो दिख जाता है,लेकिन गले लगाने को तो तरस गई हूं।
“खुद ही खुद बड़-बड़ा रही थी”
 
वह भी क्या दिन थे जब दोनों बेटों की किटर-किटर,एक दूसरे की चुगली,एक दुसरे को फिर बचाना, उनकी शैतानियां ,मानो घर भी जीवित सा लगता था।
एक बेटा कम से कम साथ रहेगा सोच तो यही था।
“लेकिन अच्छे भविष्य की लालसा कहां जाए”
जब बड़े बेटे की नौकरी लगी “बैंगलोर”, मानो हमारी खुशी का ठिकाना न था।सबको गर्व से कह रहे थे बैंगलोर जा रहा है।
लेकिन साथ मे ये भी जानते थे कि बस अब हमारी ज़िंदगी इसके साथ यहीं तक थी।
अब इसे उड़ना है,हांलनकी उसकी तरक्की भी चाहते थे।
और जानते भी थे ,ऊचाइयों को छूते-छूते समय की कमी उसे घर आने से रोकेगी,और धीरे-धीरे उसका आशियाना वहीं बन जाएगा।
“और ये घर सिर्फ घूमने की एक जगह जहाँ 1-2 साल में एक बार चक्कर लगाने आएगा”
पहले त्यौहार आते थे तो मायने थे,बच्चों का जोश देख,  उनकी ख्वाइशें पूरी करें, उनकी बनी लिस्ट मुझे बहुत प्रिय थी।
उनकी डिमांड पूरी करवाने को अपने पति से गुस्सा होती थी।
उन्हें भी कहती थी डिमांड पूरी कर लीजिए कुछ ही सालों की बात है।
क्योंकि ये वक़्त है ,नहीं ठहरता।
और इस उम्र में याने की आज मैं इस बीते वक़्त को याद कर खुश हूं।
क्योंकि मैंने कुछ ऐसा बीते वक़्त में नहीं छोड़ा की मुझे लगे कि काश ये भी करती।।
 
“हाँ बस चाहती थी वक़्त रुक जाए”
आज छोटा भी चला गया,अब पता नहीं कब आएगा।
 
यकायक कुमोद के आँसू आखों से गिर पड़े।
कानों में आवाज़ आ रही थी जैसे रंजीत उसके पति ने उसे नींद से जगा दिया।
कब से आवाज़ दे रहा हूँ।रंजीत ने कहा।
“बूढ़ी हो गई हो सुनाई नही देता”
 
“हाँ-हाँ सुन रही हूँ।एक मीठी नोक-झोंक के स्वर से कुमोद बोली”
 
चलिए शाम की सैर का समय हो गया न,मैं जानती हूं।
और मीठी यादों को वहीं बन्द कर ,एक नई याद बनाते हुए,
रंजीत और कुमोद अपनी ही दुनिया मे फिर रम गए।
“मन बांवरा है,जितना मिले और पाने की लालसा में जीता है”।
लेकिन वक़्त तो वक़्त है,न किसी के लिए है थमा, न है रुका।
बस अच्छी बुरी यादों ने इसे है सबने याद रखा।
 
भारती विकास(प्रीति)

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

रंगरेज

Thu Oct 11 , 2018
सुना है बड़े रंगरेज़ हो तुम कुछ भर उदासी तुम्हारी चौकठ पर रख आये हैं भर दो ना रंग इनमें। चढ़ा दो ना रंग अपने होठों की सुर्खियों का सफ़ेद !झक सफ़ेद पड़े चेहरे पर। आओ! आओ ना चुपके चुपके दबे पाँव भर लो अंक में मेरे शब्दों को मै […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।