छोटी सी गुड़िया

0 0
Read Time1 Minute, 56 Second
jaswant
चाँदनी रात में तारो को , देखके सोचू ,
       काश ! कोई सितारा मेरे आँगन में उतरता ।
मेरे घर में आये एक छोटी सी गुड़िया ,
          मेरा आँगन भी आसमान सा निखरता ।।
अब तो खुदा !  सुन मेरी पुकार ,
                   मेरे घर भी एक फ़रिश्ता उतार ।
मुझे छोटी गुड़िया का दे वरदान ,
                ताकि दे सकूँ उसे ढेर सारा दुलार ।।
बेटे की ख्वाहिश तो सब करते है,
               मुझे तो बस एक छोटी गुड़िया दे दे ।
बेटे जायदाद का बटवारा करते है,
              शायद ! बेटी दवाई की पुड़िया देदे ।।
बहुत समझदार बनके जिया हूँ ,
                  बच्ची के संग मै बच्चा बन जाऊं ।
आजकल की दोतरफी दुनिया में ,
               बच्चों की तरह मै सच्चा बन जाऊ ।।
नन्ही प्यारी और छोटी सी गुड़िया ,
                    कोख में ही मार देती ये दुनिया ।
मुझको भी गुड़िया का दीदार करादो ,
           क्यों सीमीत हो जाती इनकी दुनिया ।।
नन्ही व छोटी सी हो मेरे गुड़िया ,
                   कंधे पर बस्ता स्कुल में जाये ।
हाथ में लेके नमकीन की पुड़िया ,
               डाल के झप्पी, हरदम मुस्कुरायें ।।
मेरा एक ही सपना है अब ,
                    मेरे घर में भी लक्ष्मीजी आये ।
 रखे अपने कोमल से कदम और ,
             “जसवंत” के घर को जन्नत बनाये ।।

नाम – जसवंत लाल बोलीवाल ( खटीक )

पिताजी का नाम – श्री लालूराम जी खटीक ( व.अ.)

माता जी का नाम – श्रीमती मांगी देवी

धर्मपत्नी – पूजा कुमारी खटीक ( अध्यापिका )

शिक्षा – B.tech in Computer Science

व्यवसाय – मातेश्वरी किराणा स्टोर , रतना का गुड़ा

राजसमन्द ( राज .) 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हवेली को दुख है

Mon Sep 17 , 2018
मेरे पङौस की हवेली खाली पङी है अब तो शायद चूहों ने भी ठिकाना बदल लिया कभी यहाँ चहल-पहल रहती थी उत्सव सा रहता था लेकिन आज इसके वारिश कई हैं जो आपस में लङते रहते हैं संयुक्त परिवार टूटने का दुख इस हवेली को भी है #विनोद सिल्ला   […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।