नारी शक्ति का स्वरूप

2
Read Time0Seconds

Untitled

नारी है ईश्वर की प्रतिमा,
इसके प्रेम,आशीर्वाद की
नहीं है कोई सीमा।

नारी ने किया इस पृथ्वी का सृजन,
नारी बनी हर रिश्ते क्षेत्र में मिसाल..
इसने ही संवारा ये चमन।
इससे ही संभव हुआ देश-समाज में शांति और अमन।

ये है शक्तियों का भंडार,
ये करती संसार में उज्जवल
भविष्य का संचार..
हे मानव न कर नारी का तिरस्कार,
यही है धरती की पालनहार।

नारी ने ही बनाया वन को उपवन,
जो फूल खिलाकर बंजर जमीं को बना दे गुलशन..
नारी ही होती है हर जीव की नींव,
जो लाए हर इंसान के जीवन में बदलाव।

जहाँ देवलोक में सती,पार्वती,और जानकी ने परचम लहराया,
वहीं धरती पर मदर टेरेसा,झाँसी की रानी ने इतिहास दोहराया।

                                                                     #तृप्ति तोमर

परिचय : भोपाल निवासी तृप्ति तोमर पेशेवर लेखिका नहीं है,पर छात्रा के रुप में जीवन के रिश्तों कॊ अच्छा समझती हैं।यही भावना इनकी रचनाओं में समझी जा सकती है। मध्य प्रदेश के भोपाल से ताल्लुक रखने वाली तृप्ति की लेखन उम्र तो छोटी ही है,पर लिखने के शौक ने बस इन्हें जमा दिया है।

0 0

matruadmin

2 thoughts on “नारी शक्ति का स्वरूप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आओ दहन करें इस होली...

Wed Mar 8 , 2017
आओ दहन करें इस होली, ‘मैं’ का..अहम्,वहम का। रिश्ते नाते,फिर रंग डालें, यही सही समय,जीवन का। आओ दहन करें,इस होली, ‘मैं’ का..अहम, वहम का। डाह होड़ को,छोड़ करें, साधन ह्रदय,मिलन का। आओ दहन करें,इस होली, ‘मैं’ का..अहम, वहम का। लाल हरा,पीला सब ले लें, हर रंग हम जीवन का। आओ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।