वो बचपन की याद फिर आयी

Read Time0Seconds

वो बचपन की य़ादे फिर याद आयी ,
ज़हाँ चीड़ीयो की की चहचाहात रही चांदनी ,
खेतो मे खिलखिलाती रही रोशनी ,
भँवरो मे मुस्कुराहट भरी है ,
वो बचपन की य़ादे फिर याद आयी !

सूर्य की किरणे चमकता ही रहता है ,
पेड़ो मे फल लदा ही रहता है ,
चीड़ीयो मे गुज गुजता ही रहता है ,
मन मे सांस चलता ही रहता है ,
वो बचपन की य़ादे फिर याद आयी !

नैनो मे मैना चहकता ही रहता है ,
मेहनत मे रंग आती ही रहती है ,
हर जगह हरियाली बढती ही रहती है ,
वो बचपन की य़ादे फिर याद आयी !

ज़हाँ पूरा देश शांति ही शांति है ,
नेताओं के सर पे खादी की टोपी है ,
विद्यार्थी का जीवन रोशन होता है ,
वो बचपन की य़ादे फिर याद आयी !

#रूपेश कुमार

0 0

matruadmin

Next Post

देवेंद्रराज सुथार को दिल्ली में ‘हिन्दी सेवा सम्मान’

Wed Nov 13 , 2019
नई दिल्ली | 08 नवंबर शाम को भारत के प्रमुख हिन्दी समाचार एवं विचार वेब पोर्टल प्रभासाक्षी ने अपनी 18वीं वर्षगांठ पर उल्लेखनीय लेखन, हिन्दी सेवा, पत्रकारिता के लिए बागरा कस्बे के देवेंद्रराज सुथार को ‘हिन्दी सेवा सम्मान’ से सम्मानित किया। कांस्टीटूशनल क्लब नई दिल्ली में आयोजित एक भव्य समारोह […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।