दिल की है , बात जो ये , इसको दिल में , रहने दो। होंठ खामोश रहें , दिल को दिल से , कहने दो। दिल की है , बात जो ये , इसको दिल में , रहने दो।। डूबती कश्ती का , डूबता , मांँझी हूँ मै। डूबता सूरज […]

आज  मैं  महिला  दिवस  पर कुछ  लिखना  चाह रही हूँ ।आज  वर्तमान  में  महिलाएं  सभी  कलाओं  में  परिपूर्ण हो  रही हैं ।चाहे लडाई का, मुक्केबाजी, या पहलवानी का  हर एक मुकाम हासिल कर रही हैं ।हाल ही में मेरी काॅम नाम की महिला  ने 6 गोल्ड मेडल   मुक्केबाजी में  हासिल  […]

भारत के राष्ट्रपति एम वेंकेया नायडू ने अभी दो माह पूर्व दिल्ली स्थित आर. के. पुरम में आन्ध्रप्रदेश एजुकेशन सोसायटी के स्थापना दिवस पर नए भवन का शिलान्यास किया था तब उन्होंने स्कूलों में मातृभाषा को एक अनिवार्य विषय के तौर पर पढ़ायें जाने की सलाह सभी राज्यों को दी […]

जीवन में सामान्य सफलता के लिए समान्यत: बौद्धिक क्षमता को ही सर्वोतम योग्यता स्वीकार किया जाता है और भावनात्मक संतुलन के गुण की अनदेखी की जाती है, लेकिन आजकल के जटिलतम समाज में किसी भी क्षेत्र की सफलता के लिए अधिक सारगर्भित भूमिका भावनात्मक संतुलन की ही अधिक है| भावनात्मक […]

धार नहीं संगम हो जाते, चोट नहीं मरहम हो जाते। बन जाती अपनी भी कहानी, तुम जो मेरे हमदम हो जाते। दे देता मैं जान खुशी से, यदि मेरे जानम हो जाते। हाथ पकड़ लेते जो मेरा, तो काँटे कुछ कम हो जाते। तोड़ते न दिल,दिल से लगा के, चूर […]

हर मौसम का आनंद लेता सुविधा सम्पन्न, साधनहीन गरीब का निकल जाता है दम। ग्रीष्मकाल के लुलपट ने प्राण पखेरू उड़ा लिया, भारी वर्षा में इनके शिशु नाले में बहते देखा गया। जब आई शीत ऋतु तो निमोनिया ने निगल लिया। धनी व्यक्ति के घर में एसी मशीन जो लगी […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।