राजनीति शब्द मुझे व्यक्तिगत रूप से अप्रिय है, कोई मुझसे कहे कि इसका नया नामकरण यदि किया जाय तो कौन सा नाम अच्छा रहेगा तो मेरा सुझाव रहेगा “व्यवस्थानीति”।। क्योंकि राजनीति शब्द से राज करने की मानसिकता की बू आती है जो कहीं न कहीं शोषण करने की प्रवृत्ति को […]

तेरी दोस्ती बोतल के ढक्कन सी हैं तेरी दोस्ती दूध के मक्खन सी  हैं तेरी दोस्ती फूलों के भंवरों सी हैं तेरी दोस्ती सागर की लहरों सी हैं तेरी दोस्ती घर के छप्पर सी हैं तेरी दोस्ती काली के खप्पर सी हैं तेरी दोस्ती ताले की चाबी सी हैं तेरी […]

कभी तुमसे कह देंगे, कभी मुस्कुरा देंगे।। कभी तुम अगर रूठे, तो हम माना लेंगे।। पर सुनो..याद तुम रखना, इस प्यार को हम मौन ना होने देंगे।। तुम्हे दिल मे रखेंगे, धड़कन बना लेंगे ।। तेरी साँस पे अपना, जीवन सजा लेंगे ।। पर सुनो.. हम कभी तुमको, खुद से […]

तेरा चेहरा फूलों की तरह है मेरे लिए । तुम कभी ना मुरझाना मेरे लिए ।। ये वक़्त भी कट जाएगा में हूँ सदा तेरे लिए । तेरे साथ चलूँगा सदा हाथ में हाँथ लिए।। थामा है दामन तेरा मैंने जीने के लिए। मत छोड़ना अकेला मुझे मरने के लिए […]

मत रुठ के यूँ बैठ समन्दर उदास है।। ऐ नदिया समंदर को तेरी ही प्यास है।। बलखाती तू मिलती है उसके जब गले, उस लम्हे की लिए हुए बैठा वो आस है। तेरे रुकने से रुक जाएंगे ये सारे नज़ारे, तेरे रूठने का ये रुका हुआ अहसास है।। कितना अजीब […]

मुझे अकेला मत छोड़ना ना प्रिये । कहाँ जाऊँगा मैं तुम बिन प्रिये ।। बैठूँ मैं तेरे काँधे पर सर रखकर प्रिये । कहाँ मिलेगा ऐसा आराम मुझे तुम बिन प्रिये ।। हाथों में हाथ सदा ऐसे ही थामे रखना प्रिये । नहीं तो रास्ता भटकना तह हैं तुम बिन […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।