बस फैला अत्याचार है

Read Time6Seconds

sampada

कर्मठता की राह
छोड़कर,
तुम इतना जो अधीर
हो रहे।
कायरता की बात
सोचकर,
तुम इतना जो फ़कीर
हो रहे।
शिथिलता के आलम्ब
में,
नहीं कोई विस्तार है।
यहाँ-वहाँ हर कहीं बस
फैला अत्याचार हैll 
 
तुम जिनके शरणागत हो,
उनका खुद ही नहीं ठिकाना।
नित्य नए प्रपंच हैं रचते,
द्रव्य ही उनका मुख्य निशाना।
उनके उस अपने उधम में,
आत्महीन प्रसार है।
यहाँ-वहाँ हर कहीं बस फैला
अत्याचार हैll 
 
धर्म की आड़ में लूट रहे हैं,
एकदम से वे झूठ रहे हैं।
झूठा स्वाँग रचे हैं हरदम
अंदर-अंदर टूट रहे हैं।
विधि की नैसर्गिकता का
नहीं कोई उपचार है।
यहाँ-वहाँ हर कहीं बस 
फैला अत्याचार हैll 
 
नित्य-नए अपराध में लिप्त,
नारी अस्मिता से कर रहे
खिलवाड़।
ध्येय से अपने एकदम हटकर
नहीं कर रहे कोई निर्माण।
उनकी इन दुष्वृत्तियों पर,
एकदम से धिक्कार है।
यहाँ-वहाँ हर कहीं बस फैला
अत्याचार हैll 
 
कर्मठता की ज्योति जला लो,
खुद ही लिख लो अपनी तकदीर।
भाग्यवान हो जाओगे तुम,
मत हो अभी इतने अधीर।
जीवन में आगे जाने का बस,
यही एक प्रकार है।
यहाँ-वहाँ हर कहीं,
बस फैला अत्याचार हैll 
#सम्पदा मिश्रा
परिचय : सम्पदा मिश्रा की जन्मतिथि-१५ नवम्बर १९८० और जन्म स्थान-महाराष्ट्र है। आप शहर- इलाहाबाद(राज्य-उत्तर प्रदेश) में रहती हैं। एम.ए. एवं बी.एड. तक शिक्षित सम्पदा जी का कार्यक्षेत्र-बतौर प्रवक्ता अर्थशास्त्र(डाईट-इलाहाबाद) है। आपकी विधा-गद्य एवं पद्य है। आप स्वर्ण पदक विजेता हैं और लेखन का शौक है। लेखन का उद्देश्य-समाज को नई दिशा देना है।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

महत्वपूर्ण है विद्यार्थियों की उपस्थिति

Sat Feb 3 , 2018
एक विद्यालय सिर्फ किसी भवन की चारदिवारी को नहीं कहा जा सकता,सिर्फ शिक्षक और भौतिक वस्तुओं का होना भी विद्यालय की परिकल्पना को साबित नहीं करता है,विद्यालय का मूल केन्द्र बिंदु है उसके विद्यार्थी और उनकी संख्याl साथ ही उनकी उपस्थिति वो भी कितने समय तक क्योंकि,जब विद्यार्थी अपनी कक्षा(शाला) […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।