गुड़गांव का दाग

0 0
Read Time3 Minute, 49 Second
avinash
गुरुग्राम के निजी स्कूल में हुई अत्यंत घृणित और नीच हरकत ने पूरे देश के पालकों को डरा दिया है,मगर आखिर कब तक हम लचर और लाचार व्यवस्थाओं की सड़ी-गली बदबूदार गलियों के चक्कर खाते शिक्षा के सुधरने की बाट जोहते रहेंगे। एक अंधी होड़ है बस कैसे भी करके बच्चे को `अच्छे` स्कूल में डाल दें,ताकि पढ़- लिखकर बच्चे उस `मध्यम वर्ग` से बाहर आ जाएं,जिसको मां-बाप झेल रहे हैंl वही मध्यम वर्ग,जिसके लिए वित्त मंत्री संसद में बजट पेश करते हुए लानत देते हैं कि,वो अपने होने को धरती पर बोझ समझकर अपनी चादर को खुद समेटें,क्योंकि सरकार गरीबों की योजनाएं पेश कर अमीरों को अमीर बनाने में जी-जान से जुटी हुई है,इसलिए मध्यम वर्ग की जान की कीमत कुछ नहीं हैl उसे हर जगह मरना है-चाहे वो अस्पताल जाए,चाहे वो स्कूल जाए, चाहे वो रेल का सफर करे,चाहे दोपहिया से घर लौटते हुए सड़क पर दम तोड़ेl उसे मरना ही है हर हालत में,बैंक की कतारों में,करों के बोझ से,बेटी के दहेज में,स्कूल की फीस में,न्यायालय की चारदीवारी में,पुलिस की पहरेदारी में,नेताओं के अवैध दौड़ते डंपरों के नीचे और बाबाओं की सजा के पीछे। लानत है ऐसे समाजवाद और `वसुदेव कुटुम्बकम` के नारों की लाल किले से हुंकार भरते देश के उन नेताओं पर,जो किसी भी दल के हों,पर देश के सर्वजन के न हो सके। गुड़गांव की घटना के पहले भी हजारों घटनाओं पर पूरा देश डगमगाता है,उसका मानस झकझोर दिया जाता है मगर एक-दो दिन में फिर से गधे के आगे लटकी जलेबी की तरह लपलपाता चल पड़ता है अपने मसीहाओं से उम्मीद लिए। इस देश के मध्यम वर्ग को समझना होगा,तथा अपनी जरूरतों के बारे में और एकजुट होकर ताकत दिखानी होगी। खुद सृजन करना होगा अपने भविष्य का और अपने ही बूते पर व्यवस्थाओं की रचना करनी होगीl तभी सरकार भी आपके लिए झुक पाएगी ,वरना अपने नौनिहालों और उनके सपने यूँ ही कुचलते देखते रहो और छाती फाड़ विलाप करते रहोl 

                                                                    #अवनीश जैन

परिचय:लेखन,भाषण,कला और साहित्य की लगभग हर कला में पारंगत अवनीश जैन बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी हैं। ४७ बरस के श्री जैन ने महज ९ वर्ष की उम्र में पत्रकारिता से जिंदगी की शुरुआत की और विभिन्न व्यवसायों में यात्रा करते हुए कई वर्षों से शिक्षा और प्रशिक्षण में व्यस्त हैं। इंदौर निवासी श्री जैन कई औद्योगिक और रहवासी संस्थानों के वास्तु सलाहकार भी हैं। अब तक कई कविताएं-कहानियाँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। लिखना आपकी पंसद का कार्य है,साथ ही शिक्षा के छोटे-बड़े कई संस्थानों में प्रेरणादायक प्रशिक्षक के तौर पर अनेक कार्यक्रम कर चुके हैंl

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

महफ़िल ढूंढता है...

Mon Sep 11 , 2017
￰किसे तू रोज़ ऐ दिल ढूंढ़ता  है, कहाँ सहरा में महफ़िल  ढूंढता हैl  मुकम्मल  तू कभी न हो सकेगा, वज़ह क्या है कि हासिल ढूँढता हैl  बड़ी हैरत सभी को हो रही है, समंदर आज साहिल ढूंढता हैl कहीं छिप जा,नहीं तो क़त्ल होगा, तुझे हर शहर क़ातिल ढूंढता हैl […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।