मातृभाषा द्वारा कोरोना सुरक्षा कवच वितरित

0 0
Read Time1 Minute, 50 Second

कुक्षी।

मानव मात्र की सेवा के लिए प्रतिबद्ध मातृभाषा उन्नयन संस्थान के सेवा सर्वोपरि प्रकल्प द्वारा नगर कुक्षी में पुलिसकर्मियों एवं किन्नरों को कोरोना सुरक्षा कवच किट वितरीत किए गए।

ख़बर हलचल न्यूज़ के सह संपादक सुरेश जैन ने बताया कि ‘मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा विगत एक माह से लगातार इन्दौर शहर सहित जबलपुर, भोपाल इत्यादि शहरों में राशन, भोजन और पानी का वितरण किया जा रहा है, इसी कड़ी में कोरोना योद्धाओं के तौर पर कार्यरत पुलिसकर्मियों की भी सुरक्षा के लिए कार्य करना संस्थान का ध्येय है। इसी के मद्देनज़र प्रकल्प के माध्यम से संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ के नेतृत्व में कुक्षी शहर में तैनात पुलिसकर्मियों एवं शहर के किन्नर गुरु रेशम भुआजी को कोरोना सुरक्षा कवच किट उपलब्ध करवाए गए।’

सेवा सर्वोपरि प्रकल्प के कुक्षी संयोजक एवं ख़बर हलचल न्यूज़ के प्रबंध संपादक देवेन्द्र जैन, सिद्धार्थ तांतेड़ आदि सेवादूतों द्वारा सुरक्षा कवच किट वितरण किया गया। एस डी ओ पी ए व्ही सिम्ह जी द्वारा संस्थान के कार्यों की सराहना की एवं प्रकल्प का धन्यवाद ज्ञापित किया।

matruadmin

Next Post

मातृभाषा द्वारा किन्नर समूह को कोरोना सुरक्षा कवच वितरित

Tue Jun 8 , 2021
इन्दौर। हमेशा अपनी दुआओं से घर-परिवार को रौशन रखने वाले किन्नर समूह को कोरोना के आपदाकाल में मातृभाषा उन्नयन संस्थान एवं सेवा सर्वोपरि प्रकल्प द्वारा आज कोरोना सुरक्षा कवच वितरित किए गए। सेवा सर्वोपरि प्रकल्प के इरशाद खान ने बताया कि ‘मातृभाषा उन्नयन संस्थान विगत दो माह से राशन, भोजन […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।