न समझ सका…

0 0
Read Time51 Second

सब कुछ होते हुए भी
यहाँ वहाँ खोजता रहा।
जिसे तुझे खोजना था
वो तेरे से दूर होता गया।
और तू प्रभु का खेल
कभी समझ न सका।
बस दौलत के पीछे ही
तू सदा भागता रहा।।

इस दौलत के जाल को
अच्छे अच्छे नहीं समझ सके।
बस इसके मायावी जाल में
निरंतर फसते गये।
और अपने सुखचैन को
खोते चले गये।
पर सच्चे सुख को
पहचान ही न सके।।

ह्रदय की गैहराईयों में
शांति से बैठकर सोचो।
और अपनी आत्मा के
भावों को स्वयं में देखो।
सत्य तुमको दिख जायेगा
जिसपर अमल करना पड़ेगा।
तभी तेरा मानव जीवन
कमल सा खिल जायेगा।।

जय जिनेंद्र देव
संजय जैन, मुंबई

matruadmin

Next Post

पुरुषार्थ

Sun Apr 25 , 2021
सद्चिन्तन करते रहो जब तक घट मे प्राण हर सांस को मान लो अपना आखिरी प्राण मन मे रहे परमात्मा जीव्हा पर हरि नाम पापमुक्त हो जाओगे मिल जायेगे भगवान जितना पुरुषार्थ करोगे उतना फल देंगे भगवान गीता मे यही कहते है अपने शिव भगवान।#श्रीगोपाल नारसन Post Views: 9

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।