ये लड़कियाँ

0 0
Read Time1 Minute, 33 Second

यूँ ही नहीं ये लड़कियाँ,
कहलाती सुन्दर हैं।
उनके दिल में प्रेम का,
समाया समन्दर है।

ना मानों तो जरा सोचो,
कभी इनके बारे में।
क्या है ख़ता इनकी,
विचारो इसके बारे में।

ना छेड़ती लड़कों को,
ये चलती राहों में।
ना बोलती अपशब्द हैं,
भरे बाजारों में।

ना घूरतीं लड़कों को,
गन्दी निगाहों से।
ना रोकतीं लड़कों को,
चलती राहों में।

ना फेंकती तेजाब हैं,
दिल टूट जाने पर।
ना काटती गला कभी,
मौका आने पर।

ना खींचती दुप्पट्टे,
भरे बाज़ार में।
ना मारती सीटियां,
चलती राह में।

बेशर्मों की बेशर्मी पर,
सदा ये लजातीं हैं।
गैरों गुनाहों की,
सज़ा ये पातीं हैं।

अब छोड़ो परम्परा ये,
तोड़ो विधान ये।
भला चाहो तो अपना,
रखो बेटी का मान रे।

करके विदाई देख लो,
बेटों की एक बार।
ससुराल में कटते हैं,
कैसे दिन हज़ार।

घर देर से आए जो,
ताने लाख सुनतीं है।
पति के देर होने पर,
चिन्ता में घुनतीं है।

देना है तो अब दे दो,
थोड़े संस्कार बेटों को।
तमीज़ दे दो थोड़ी सी,
जरा अब तो बेटों को।

जिएं ना लड़कियाँ ये,
अब डर के साए में।
कटे जीवन उनका भी,
खुशियों के साए में।

स्वरचित
सपना (स. अ.)
प्रा.वि.-उजीतीपुर
वि.ख.-भाग्यनगर
जनपद-औरैया

matruadmin

Next Post

नारी

Sat Mar 13 , 2021
“नारी” नम्र,नियम,न्याय,निष्ठा से परिपूर्ण एक अद्भुत निकेतन है! “नारी” संस्कृति,सभ्यता,संवेदना,संकल्प,स्वाभिमान,सम्मान, सद्गुण एवं स्नेह की सर्वश्रेष्ठ संरक्षिका है! “नारी” यानी सदैव क्रियाशील रहना,हलचल करना एवं सदैव नेतृत्व करना! “नारी” तिरस्कार,निरादर,अवहेलना की नहीं बल्कि स्वीकार्य,आदर एवं अपेक्षाओं की प्रतिमूर्ति एवं प्रतीक है! “नारी” बाह्य ख़ूबसूरती में लिपटा लिबास नहीं बल्कि अंतर्मन की […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।