हीरोशिमा नगरी में एक दिन, हुआ तेज धमाका था। सुन आवाज धमाके की, कलेजा मानव का कांपा था। देख तबाही का मंजर, मानवता घबराई थी। ना जाने किस करनी की, निर्दोषों ने सजा पाई थी। चिथड़े चिथड़े हुए नर नारी, बच्चों की लाशों की ढेरी थी। घर बंगले सब खाक […]

हे धरती के भगवान सुनो, करना हम पर उपकार सुनो। चाहे विपदा कितनी भारी हो, चाहे कितनी बड़ी बीमारी हो। तुम कभी ना हिम्मत हारे हो, तुम तारनहार हमारे हो। धरती के …………… चाहे दुर्घटना हो जाए कभी, हड्डी पसली टूट जाए कभी। एक्सरे, प्लास्टर करवाते हो, हम सबकी जान […]

तू निराश क्यों खड़ा है? किस दुविधा में पड़ा है? कर खुद पे तू भरोसा। प्रभु सँग तेरे खड़ा है। यूँ ही नहीं है मिलती, जग में कोई सफलता। तन मन और लगन से, है कर्म करना पड़ता। तू निराश…….. बेचारा नहीं तू बन्दे, ईश्वर की तू है रचना। एक […]

बाबू जी वापस आ जाओ, एक बार गले से लगा जाओ। तेरे जाने से बाबुल मेरे, तेरी बगिया देखो उजड़ गई। माई रो रो बेहाल हुई, जरा धीरज उसको बंधा जाओ। बाबू जी…….. हम तेरी राह निहारते हैं, आहट सुन द्वार पे भागते हैं। सुनो विनती हमारी बाबू जी, एक […]

इंसान को इंसानियत सिखलाए मन में मानवता जगाए ये हमारे संस्कार ओ मेरे यार……. जब कोई दुर्घटना हो जाए किसी को चोट लग जाए रखना उनका ख्याल ओ मेरे यार…… जब कोई मुश्किल में फस जाए कोई रोए और घबराए पूछ लेना उनके दिल का हाल ओ मेरे यार……. जब […]

मृत्यु का अर्थ स्वर्ग नही फिर क्यों स्वर्गीय कहते हो पाप किये जिसने बहुत उसे नर्क में नही बताते हो स्वर्ग जाएगा या नर्क में कर्म निर्धारण करते है परमात्मा तटस्थ है भाई भेदभाव नही वह करते है अगर चाहिए स्वर्गलोक सद्कर्म पथ पर चले चलो हर लोक संवर जाएगा […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।