हूँ किस्मत से मजबूर मगर, मेहनत की रोटी खाता हूँ। दौलत शौरहत तो पास नहीं, बस मेहनत पे इतराता हूँ ।। दो वक्त की रोटी की ख़ातिर, दिन रात परिश्रम करता हूँ। बहा कर खून पसीना अपना, परिवार का पेट मैं भरता हूँ। नदियों पर मैं बांध बनाता, रेलों की […]

लाशों की ढेरी पर चढ़कर, क्यों सिंघासन पाना चाहते हो। नेता जी अपनी बरबादी का, क्यों बीज बोना चाहते हो। भेड़ बकरियाँ समझ हमें, क्यों बलि चढ़ाना चाहते हो? गरीब लाचारों की चिताओं पे, क्यों रोटियाँ सेकना चाहते हो? ज़रा बच के रहना नेता जी, कहीं झुलस ना जाना तुम। […]

पार लगाने नैया, चले जाओ रघुरैया। नष्ट हो रही सृष्टि तेरी , दुनियाँ बनी है लाशों की ढेरी। अब ना लगाओ तनिक भी देरी, आस हमें है बस प्रभु तेरी। मझधार में डोले नैया। चले जाओ रघुरैया………. पार लगाने नैया, चले जाओ रघुरैया। पग पग पर फैली महामारी, आफत में […]

बाबा साहब आपको, हम करते हैं नमन। आभारी रहेंगे आपके, हम जनम जनम। कंटको की राह पर, चलकर दिखाया तुमने। जो कर सका कोई, वो कर दिखाया तुमने। धर्म जातिवाद भेदभाव, का किया विरोध तुमने। हम रचना एक ईश्वर की, ये बताया बाबा तुमने। सर्वधर्म एक हैं ये, पढ़ाया पाठ […]

अम्बे माँ का दरबार, खुशियों का है भंडार। मैया देती है सबको, खुशियाँ अपार। अम्बे माँ का…….. माथे पे बिंदिया सोहे, कानों में कुंडल। गले पुष्प माला सोहे, पैरों में पायल। होकर सिंह पे सवार, लेकर हाथों में तलवार। मैया देती है सबको, खुशियाँ अपार। अम्बे माँ का……….. झोली सबकी […]

नदियाँ, नहरें, पोखर सब, अक्षय संसाधन जल के हैं। अमृत का है रूप धरा पर, जल सारे जीवों का जीवन है। जल संसाधन हम सबकी, हरपल प्यास बुझाते हैं। धरती माता के आँचल को, सदा हरा भरा बनाते हैं। बिजली का हो उत्पादन , या हो मछली का पालन । […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।