सुन लो साहब !मेरी भी, मैं तो एक मजदूर हूँ। किस्मत का मारा मैं बेचारा, प्रभु की रहमत से दूर हूँ। लॉक डाउन हुआ है जब से, रोजगार कोई मिलता नहीं। दो वक्त की रोटी का भी , जुगाड़ कोई करता नहीं। हर रोज़ निकलता हूँ घर से, पर काम […]

लाशों की ढेरी पर चढ़कर, क्यों सिंघासन पाना चाहते हो। नेता जी अपनी बरबादी का, क्यों बीज बोना चाहते हो। भेड़ बकरियाँ समझ हमें, क्यों बलि चढ़ाना चाहते हो? गरीब लाचारों की चिताओं पे, क्यों रोटियाँ सेकना चाहते हो? ज़रा बच के रहना नेता जी, कहीं झुलस ना जाना तुम। […]

बजरंग बली अब आ जाओ, संकट से प्रभु हमको बचाओ। संजीवनी बूटी फिर से लाओ, आकर अपनी सृष्टि बचाओ। आप ही हो प्रभु आस हमारे, हम सबके प्रभु आप सहारे। रघुनन्दन के थे काज सँवारे, बिगड़े बना दो काज हमारे। लाँघ समन्दर फिर आ जाओ, महामारी से हमको बचाओ। पूँछ […]

पुस्तकें हमारी यार हैं, ज्ञान का भण्डार हैं। कर लो इनसे दोस्ती, जीवन का ये सार हैं। सूरज इनमें तारे इनमें, बादल भी इनमें बरसें-2 ओ……….. इनमें भी चलती पुरवैया, खुशियाँ इनसे बरसें-2 पुस्तकें हमारी…….. राजा रानी की किस्से हो, या परियों के कहानी-2 ओ…….. भालू बन्दर की शैतानी हो […]

पार लगाने नैया, चले जाओ रघुरैया। नष्ट हो रही सृष्टि तेरी , दुनियाँ बनी है लाशों की ढेरी। अब ना लगाओ तनिक भी देरी, आस हमें है बस प्रभु तेरी। मझधार में डोले नैया। चले जाओ रघुरैया………. पार लगाने नैया, चले जाओ रघुरैया। पग पग पर फैली महामारी, आफत में […]

बाबा साहब आपको, हम करते हैं नमन। आभारी रहेंगे आपके, हम जनम जनम। कंटको की राह पर, चलकर दिखाया तुमने। जो कर सका कोई, वो कर दिखाया तुमने। धर्म जातिवाद भेदभाव, का किया विरोध तुमने। हम रचना एक ईश्वर की, ये बताया बाबा तुमने। सर्वधर्म एक हैं ये, पढ़ाया पाठ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।