कविता

1
0 0
Read Time2 Minute, 43 Second

santosh

कविता आँखें खोलती,कविता लड़ती जंग
कविता लाती चेतना,कविता भरती उमंग।

कविता दिल में उतरती,कविता करती मार
कविता जोश उभारती,कविता की तलवार।

शस्त्र सिर्फ कर सकते,तन पर ही प्रहार
अंतर्मन झकझोरती,ये कविता की धार।

कविता जब लगाती है,अपनी तेज हुंकार
अर्जुन भी उठ खड़ा हो,करता है ललकार।

याद दिला इतिहास का,बढ़ाती उल्ल्हास
युद्ध के मैदानों में,जगा जीत की आस।

आज़ादी की जंग में,भी फूंकी थी जान
गोरों को भगाने में,था बड़ा योगदान।

भ्रष्टाचार,से भिड़ी,है जन-जन के साथ
अनाचार से लड़ रही,थाम आपका हाथ।

कविता ने ही देश का,बढ़ा दिया सम्मान
कविता की फुफकार को,जाने सकल जहान।

कविता कभी ना झुकती,होगा ना अवसान
कविता से “संतोष”है,इसका हो सम्मान।

                                                          #सन्तोष कुमार नेमा ‘संतोष’

परिचय : लेखन के क्षेत्र में सन्तोष कुमार नेमा ‘संतोष’ जबलपुर से ताल्लुक रखते हैं। आपका जन्म मध्यप्रदेश के सिवनी जिले के आदेगांव ग्राम में 1961 में हुआ है। आपके पिता देवीचरण नेमा(स्व.) ने माता जी पर कई भजन लिखें हैं, जिनका प्रकाशन भी हुआ है।1982 से डाक विभाग में सेवारत होकर आप प्रांतीय स्तर की ‘यूनियन वार्ता’ बुलेटिन का लगातार संपादन कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ में भी प्रांतीय सचिव चुने जाने पर छत्तीसगढ़ पोस्ट का भी संपादन लगातार किया है। राष्ट्रीय स्तर पर लगातार पदों पर आसीन रहे हैं।आपकी रचनाएँ स्थानीय समाचार पत्रों में प्रमुखता से छपती रही हैं। वर्त्तमान में पत्रिका के एक्सपोज कालम में लगातार प्रकाशन जारी है। आपको गुंजन कला सदन (जबलपुर) द्वारा काव्य प्रकाश अलंकरण से सम्मान्नित किया जा चुका है। विभिन्न सामाजिक संस्थाओं में भी आप सक्रिय हैं।आपको कविताएं,व्यंग्य तथा ग़ज़ल आदि लिखने में काफी रुचि है। आप ब्लॉग भी लिखते हैं। शीघ्र ही आपका पहला काब्य संग्रह प्रकाशित होने जा रहा है।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

One thought on “कविता

  1. Shri San tosh Nema Jee , is a nice personality and pride of indiapost, I know him personally and had been associated with him during my 2 years posing in Jabalpur.He is a top union leader, a good social worker and a faithful govt servant.
    I wish him high horizons in all the fields

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मिल जाए गर नेह..

Sat May 20 , 2017
मैं तपती धरती हूँ प्रियतम, तुम पावस की हो जल धार मिल जाए गर नेह तुम्हारा मना लूं मैं भी एक त्यौहार। जब-जब खिली चांदनी छत पर, तारों संग बारात लिए चुनर डाल चली सिर ऊपर शरमाई मधुमास लिए पायजेब ही शोर मचाए सौतन-सा करती व्यवहार।मिल जाए….।। छोटी-सी बदली ने […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।