खुद पे भरोसा रखना

1 0
Read Time1 Minute, 38 Second

मन को लगाके पढ़ना,मेहनत भी खूब करना,
मिल जाएगी सफलता ,याद तुम ये रखना।

आए जो कोई मुश्किल,
याद मुझको करना।
मैं साथ हूं तुम्हारे,
हरपल ये याद रखना।
मन को लगाके पढ़ना,मेहनत भी खूब करना,
मिल जाएगी सफलता ,याद तुम ये रखना।

माना कठिन हैं राहें ,
खुद पे भरोसा रखना।
कभी निराश तुम ना होना,
दीप आशा के तुम जलाना।
मन को लगाके पढ़ना, मेहनत भी खूब करना,
मिल जाएगी सफलता , याद तुम ये रखना।

आए जो कोई उलझन,
दिल पे हाथ रखना।
सुलझेंगी सारी उलझन,
बस याद रब को करना ।
मन को लगाके पढ़ना,मेहनत भी खूब करना,
मिल जाएगी सफलता , याद तुम ये रखना।

मन में जोश भर के,
साधो लक्ष्य पे निशाना।
ना पीछे तुम हटना,
पछताओगे वरना।
मन को लगाके पढ़ना,मेहनत भी खूब करना,
मिल जाएगी सफलता ,याद तुम ये रखना।

जग में नाम करना ,
सबका मान रखना।
मिल जाए जो शोहरत,
मत अभिमान करना,
मन को लगाके पढ़ना,मेहनत भी खूब करना,
मिल जाएगी सफलता , याद तुम ये रखना।

इंसान अच्छे बनना,
दुःख ना किसी को देना।
पाओगे खुशियां सारी,
बस इतना याद रखना।
मन को लगाके पढ़ना,मेहनत भी खूब करना,
मिल जाएगी सफलता , याद तुम ये रखना।

रचना
सपना (स० अ०)
प्रा ०वि ० उजीतीपुर
जनपद_ औरैया

matruadmin

Next Post

सरदार वल्लभ भाई पटेल

Thu Oct 29 , 2020
अखंड भारत के निर्माता सरदार वल्लभभाई पटेल गुजरात के खेड़ा जिल्ले में 31 अक्टूबर 1875 मे जन्मे थे, उन्होने भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई में भी हिस्सा लिया था, बार डॉली सत्याग्रह मे नेतृत्व के रूप में सफलता हासिल की थी इस लिए महिला ने उनको सरदार की उपाधि से […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।