रविवार

1 0
Read Time1 Minute, 4 Second

आज रविवार है
कोरोना को बुखार है
सौ के ऊपर डिग्री चार है
सोमवार को हनुमान जी नहीं आयेंगे
वे तो मंगलवार को ही आयेंगे
हनुमान जी आते है
डॉ के पास ले जाते है
डॉ साहब बोले ,
” इसको तो तेज बुखार है
कोरोना का ये शिकार है
इसके तो मरने के आसार है
इसका कोई इलाज नहीं
इसकी कोई दवाई नहीं
इसको तो मरना होगा
अपने कर्मो का फल भोगना होगा “
कोरोना बुधवार को मर जाता है
उसके घर कोई नहीं जाता है
क्योकि सब घर में बंद है
घर मै रहने के पाबन्द है
वीरबार को शुक्र शनि उसके घर आयेगे
वे ही उसका अंतिम संस्कार कर पायेंगे
जब हो जाएगा कोरोना का अंतिम संस्कार
तभी लोग खुश होकर निकलेगे घर से बाहर

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

matruadmin

Next Post

जीवन

Sun Apr 19 , 2020
मिलता है विषाद इसमें इसमें ही मिलता हर्ष है कहते हैं इसको जीवन इसका ही नाम संघर्ष है दोनों रंगों में यह दिखता कभी श्याम कभी श्वेत में कुछ मिलता कुछ खो जाता रस जीवन का है द्वैत में लक्ष्य होते हैं पूर्ण कई थोड़े शेष भी रह जाते हैं […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।