मालवी जाजम : :चम् चम् करतो चुड़ीलो माथा पे बोर बंद ….मालवी जाजम इंदौर में बिछी

0 0
Read Time2 Minute, 35 Second

WhatsApp_Image_2019-07-28_at_5.23.38_PM

चम् चम् करतो चुड़ीलो माथा पे बोर बंद ….मालवी जाजम इंदौर में बिछी

सावन की फुआरो के साथ ही मध्य प्रदेश साहित्य अकादमी में मालवी जाजम बिछी और शहर के मालवी साहित्यकारों का जमावड़ा लगा | बादलो की गडगडाहट के साथ ही चमकती बिजली मानो आतिशबाजी और प्रक्रति  का नजारा देखने लायक था | माह के अंतिम रविवार को बिछने वाली जाजम में मालवी गीत ,गजल और कविताओ का दौर चला | लोकगीत भी गाये गए |तेज बारिश में साहित्यकार गिले होते हुवे पहुचे और मालवी साहित्य के साथ सावनोत्सव मनाया गया | श्रृंगार की भी बात हुई तो ककड़ी भुट्टे की भी बात हुई | मस्ती की भी बात हुई |
वरिष्ठ मालवी साहित्यकार राजेश भंडारी “बाबू” ने चम चमातो चुड़ीलो  माथा पे बोर बंद, कमर से सरकतो कन्दोरो ,लहरातो बाजुबंद ……छम छम करता झंजरिया मुस्काए मकरंद …गोरी थारो रूप निहारे ..साजन मुस्काए मंद मंद | इसके अलावा दूसरी रचना वारे मालवा का लाल थारो कई केणो, थारो दिल मांगे मोरे ,कर्जो करी करी के गाड़ी ख़रीदे , माफ़ करने सारु मचाये शोर…सुना कर खूब वाह वाही बटोरी |साथ ही मालवी के वीणा पत्रिका में २ पेज रखने की भी बात साहित्यकारों ने की | साथ ही मालवी जाजम को वृहत रूप देने की भी बात की | मुकेश इन्दोरी ने लोकगीत – लो आइगयो सावन ,मन भई गयो स्वान सुनाकर खूब वाहवाही लुटी |श्री हरिमोहन नीमा ने मालवी हाइकु पड़े जो मालवी एक नया प्रयोग है |कुसुम मंडलोई ने गीत मै तो झुला झूलन को जाऊ सुनाया |भीम सिंह पवार ने सावन में ग्रामीण परिवेश का वर्णन किया कुवा बावड़ी सब भरी गया |नंदकिशोर चोहान ,सत्यानारायन मंगल और देवीलाल गुर्जर आदि ने भी रचनाये भी सुनाई और सभी को सराहा गया |
राजेश भंडारी 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

गुरु सेवा

Thu Aug 1 , 2019
गुरुदेव मेरे, गुरुदेव मेरे,  चरणों में अपने, हमको बैठा लो। सेवा में अपनी, हमको लगा लो, गुरुदेव मेरे, गुरुदेव मेरे। मुझको अपने भक्तो की,  दो सेवादारी। आयेंगे सत संघ सुनने ,  जो भी नर नारी। मैं उनका सत्कार करूँगा,  वंदन बारम्बार करूँगा।। गुरुदेव मेरे, गुरुदेव मेरे,  चरणों में अपने, हमको […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।