दोस्ती में साजिशें।

0 0
Read Time2 Minute, 38 Second

ajay ahsas

ऐ दोस्त तेरी दोस्ती में सब छुपाता आ गया
मेरे लिए दुश्वारियां परेशानियां साजिश किये
वो कुछ भी ना कर पायेगा मैं फिर बताता आ गया।
साजिश करे मैं जाउं फंस दुख हो उसे मुझे देख हस
वो चाहता है द्वन्द हो आंखों में कुहरे का धुन्ध हो
पर सत्य का सूरज तो कुहरे को मिटाता आ गया।
उसको गुमां है पैसे का है और अपने जैसे का
मंदिर में जोड़े हाथ वो ना दे गरीब का साथ वो
देख भिक्षुक हाथ जोड़े कि विधाता आ गया।
मुंह पे बोले ऐसा लगता है बड़ा हमदर्द वो
देकर भाषण जैसे नेता दूर करता दर्द वो
दूर से सुन बात उसकी खिलखिलाता आ गया।
कहता है कि हम तो चाहें आप भी आगे बढ़ो
हम पी एच डी कर रहे है आप भी ऐसे पढ़ो
मांगू तो ना दे किताबें और पढ़ाता आ गया।
मेरे मुंह पर मेरी वाली और उसकी तरफदारी
हवस अपनी मिटाने को ना देखता वो रिश्तेदारी
बनना अवसरवादी कैसे वो बताता आ गया।
दूसरे तो छोटे है वो पेट निकले मोटे हैं
उनका सिक्का खरा सोना बाकी तो सब खोटे है
उपब्धियां ट्रेनों बसों में वो गिनाता आ गया।
जब कोई मुश्किल हुई सुनकर मैं पहुंचा दौड़कर
सोचे करे बरबाद मुझको समय रहते तोड़़कर
था बुझाने का हुनर उसमें मगर आग फिर भी वो लगाता आ गया।
दोस्ती पर उसके मेरे दोस्त सब अफसोस कर
बैठे सड़़कों के किनारे अपने मन को कोस कर
देखकर आफत मेरी वो खिलखिलाता आ गया।
वो है कहता दूर हूं क्या आग घर की बुझाउंगा
नासमझ उसे नापता मैं सुन के दौड़ा आउंगा
अपना पराया वक्त ये हमको बताता आ गया।
दोस्ती का दोस्त मेरे क्या यही अन्जाम है
दोस्त बनकर हमको डसता हम पर ही इल्जाम है
जो हुआ अच्छा हुआ मैं गुनगुनाता आ गया।
कोई ना होता बुरा ये सब समय का खेल है
अब हुआ ‘एहसास’ की ये जिन्दगी की रेल है
बैर रक्खूं मैं न उससे सब भुलाता आ गया।
             -अजय एहसास
          सुलेमपुर परसावां
    अम्बेडकर नगर( उ०प्र०)

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हाय 

Fri Jun 21 , 2019
मोबाइल फोन पर हरेलाल गिड़गिडाये जा रहे थे | उनकी आँखों में आये आँसू और मुरझाये चेहरे, सूखे होठों से साफ पता चल रहा था कि हरेलाल पर दिन दहाडे बिजली गिरी है | चौका (गांव की रसोई) में बैठी हरेलाल की धर्मपत्नी शरबती देवी को भी आभास हो गया, […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।