शेर सिंह राणा की शौर्य गाथा…….

0 0
Read Time2 Minute, 51 Second
mangal pratap
क्षत्रियों पर संकट जब आन पड़ी,
तब हिन्द ने रुड़की में ऐसा शेर जना।
तिहाड़ भी जिसको रोक न सका,
अफगानिस्तान भी न कर सका मना।।
पृथ्वीराज चौहान की अस्थियों को भी जिसने,
मुल्लों के मुल्क से डटकर छीन लिया।
चार बांस चौबीस गज से भी बड़े जिगरे वाला,
मां भवानी के पुत्र राणा ने पूरा प्रण किया।।
संघर्ष और वीरता के प्रतीक,
शेर-ए-हिंद को जानता पूरा जहान है।
बहमई कांड का बदला लेने वाला,
हिंदुआ गौरव,शेर सिंह राणा महान है।।
आज हिन्द की मिट्टी भी यहीं बात दोहराती है,
जब-जब रजपूती सम्मान की रक्षा आन पड़े।
तब-तब इतिहास की स्वर्ण अक्षरे भी,
शेर सिंह राणा के शौर्य से लिखी जाती हैं।
हे राजपूत क्षत्रिय! हे वीर शिरोमणि!,
तुम सब भी शौर्य गाथाओं को गढ़ लेना।
जब भी हिंदुत्व रक्षा की बात उठे,
तब एक बार शेर सिंह राणा को पढ़ लेना।।

#मंगल प्रताप चौहान

परिचय:  मंगल प्रताप चौहान जी की जन्मतिथि-२० मार्च १९९८ और जन्मस्थली सोनभद्र की पृष्ठभूमि ग्राम अक्छोर, राबर्ट्सगंज (जिला-सोनभद्र ,उप्र) है। राबर्ट्सगंज सोनभद्र के आदर्श इण्टरमीडिएट कालेज से आपने  हाईस्कूल व इण्टरमीडिएट की शिक्षा लेकर काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी से बी०काम व यू०जी०डी०सी०ए० की शिक्षा प्राप्त किया। ततपश्चात डी०एल०एड० करके अध्यापन के साथ साथ साहित्य क्षेत्र में आप कार्यरत हैं। इसके अलावा एनसीसी,स्काउट गाइड व एनएसएस भी आपके नाम है। आपका कार्यक्षेत्र अध्यापन, लेखन एवं साहित्यिक काव्यपाठ के साथ साथ सामाजिक कार्यकर्ता एवं समाज में व्याप्त नकारात्मक ऊर्जाओं को अपने कलम की लेखनी से उखाड़ फेंकने का पूर्ण रूप से आत्मविश्वास है।अब तक बहुत ही कम समय में आपके नाम कई कविताओं व सकारात्मक विचारों का समावेश है।अब तक आपकी दर्जनों भर रचनाएं हरियाणा, दिल्ली ,मध्यप्रदेश, मुम्बई व उत्तर प्रदेशसे प्रकाशित हो चुकी हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

गीतशाला विभाग में रंगारंग गीतोत्सव सम्पन्न

Fri Apr 12 , 2019
साहित्य संगम संस्थान के गीतशाला विभाग में नवरात्री के शुभअवसर पर दिनांक १०.४.२०१९ की शाम ७बजे से गीतोत्सव का आयोजन किया गया ,गीतशाला की प्रमुख आदरणीया सरोज सिंह ठाकुर जी नें इस प्रथम रंगारंग गीतोत्सव का आयोजन करवाया ,जिसमें कई प्रतिभागियों नें अपनीं अनूठी प्रस्तुतियों से श्रोताओं को भाव विभोर […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।