सिद्धिदात्री (माता का नौवां रूप )

Read Time0Seconds
IMG-20181018-WA0003
माँ दुर्गा की उपासना की उत्तमावस्था है महानवमी ! पूर्ण निष्ठा से की गई साधना इस दिन सिद्धि में परिणत होती है।
मान्यता है कि इस दिन तक आते-आते साधक साध ही लेता है और नौवें रूप में माँ सिद्धिदात्री के रूप में प्रकट होती हैं , जो सिद्धि और मोक्ष दात्री हैं और ऐश्वर्यप्रदायिनी भी  । चार भुजाओं वाली कमलासना माँ के दाहिनी तरफ के नीचे वाले हाथ में भी खिला हुआ कमल है जो देखें तो सुषुप्त चक्रों के खुलने का प्रतीक है।
इससे पहले के आठ दिनों में साधक अष्टसिद्धि प्राप्त करता है । मार्कण्डेय पुराण में इन अष्ट सिद्धियों का उल्लेख भी मिलता है :   अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व और वशित्व ।
भाषा-विज्ञान की दृष्टि से देखें तो नवरात्र से संबद्ध सभी प्रतीकों की महत्ता स्वयंमेव यह सिद्धिदात्री माँ ही समुद्घाटित करने में पूर्ण सक्षम हैं ।  यहाँ तक कि इस अवसर पर होने वाले रास, डांडिया आदि नृत्य , लास्य  आदि प्रतीक स्वरूपात्मक ही हैं ।
 यह बाहर खेला जाना वाला रास वस्तुतः मनुष्य के  मन, बुध्दि, चित्त, अहंकार की रसात्मक अनुभूति है जो कि वस्तुतः किसी भी साधक के परम तप की परिणति होती है ।
समष्टि रूप में ये हमारी आंतरिक शक्तियों के प्रतीकात्मक चिह्न हैं जो कि  भौतिक उपादानों  से अभिव्यंजित होते हैं , जैसे-  रास अंदर के ‘रस’ की, रसात्मक अनुभूति और साधना की परिणति से आये संगति का प्रतीक है और डांडिया में जो डंडे लयपूर्वक मिलाए जाते हैं, वे अंदर की शक्तियों के सुमेल के प्रतीक हैं ।
 इस सर्वशक्तिस्वरूपिणी, मंगलकारी और प्रमानंदस्वरूपा के लिए उचित ही कहा गया है :
 सर्वमंगलमांगल्यै शिवे सर्वार्थ साधिके। शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणी नमोस्तुते ।।
कमलेश कमल
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वो राम कहाँ से लाऊ.....

Thu Oct 18 , 2018
वो राम कहाँ से लाऊ अब जो रावण का संघार करें। सीता को हरने से पहले रावण भी अपने  मन मे, सौ सौ बार विचार करें। उस को था पता कि राम जरूर आयेंगे , सीता को बचा ले जायेंगे। नही करना था उस को सीता को कलंकित इसलिए कभी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।