एकता का बल

0 0
Read Time4 Minute, 32 Second

devendr soni

रमानाथ कई सालों से सपत्नीक धार्मिक यात्रा पर जाने की सोच रहे थे पर हर बार कारोबार की व्यस्तता या कोई न कोई अड़चन उन्हें जाने से रोक देती । पत्नी राधा बेचारी मन मसोस कर रह जाती ।
उम्र के इस अंतिम पहर में वह अपने पति के साथ धर्म यात्रा करना चाहती थी । कारोबार उनके दोनों बेटों ने संभाल लिया था पर फिर भी रमानाथ का नेतृत्व और आदेश ही सर्वोपरी होता था । उनके घर और कारोबार को उनका निर्देशन ही एकता के सूत्र में बांधे हुए था ।
यही कारण था कि वे कहीं बाहर निकल ही नही पाते थे पर इस बार उन्होंने चार माह की यात्रा का पूरा इंतजाम कर लिया और अपने दोनों बेटों को कारोबार की बारीकियां समझाते हुए अपने वित्तीय अधिकार बड़े बेटे को सौंप दिए और ख़ुशी – ख़ुशी अपनी यात्रा पर निकल गए । यहीं अनुभवी रमानाथ से चूक हो गई ।
….पर राधा बहुत खुश थी । उसकी वर्षों की चाहत पूरी हो रही थी मगर वह भी नहीं जानती थी यह चार माह की धर्म -यात्रा , एकता के उस धागे को तोड़ देगी जो उनके घर और कारोबार की नींव को हिला कर रख देगा ।
रमानाथ के जाने के बाद घर और कारोबार में एक माह तो ठीक ठाक निकला पर फिर धीरे – धीरे भाइयों के मन में वित्तीय लेन – देन को लेकर खींचतान होने लगी । फलतः दोनों के आपसी स्नेह में मन मुटाव पनपने लगा । यही मनःस्थिति उनके घर ” स्नेह सदन ” को भी प्रभावित करने लगी । एकता का जो बल था अब वह दरकते हुए सामने आने लगा था । इसे छोटी बहू ने भांप लिया था ।
वह समझ गई थी कि उनकी एकता के सूत्र को पिताजी का यह वित्तीय अधिकार का सामान्य सा निर्णय बिखेर कर रख देगा । तब उसने पिताजी को फोन पर सारी बातें बताते हुए उनसे स्थिति को संभालने का आग्रह किया ।
पहले तो रमानाथ ने इसे हल्के में लेते हुए अपनी बहू से कह दिया – चिन्ता मत कर बेटा ! ऐसा कुछ नहीं होगा मगर वे खुद चिंतित हो गए । अब उनका मन धर्म – यात्रा में नहीं लग रहा था । उन्हें चिंतित देख जब राधा ने उनसे कारण जानना चाहा तो रमानाथ ने सारी स्थिति बता दी ।
समझदार राधा ने यह सुन उनसे कहा – अनजाने में ही सही पर आपका निर्णय गलत हो गया । पैसा और अधिकार ही सब संकट का कारण होता है । अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है । चलो वापस घर चलते हैं । धर्म यात्रा से ज्यादा जरूरी कर्म यात्रा है । जितने दर्शन करना भाग्य में लिखा था उतने कर लिए । अब शेष रही बाकी यात्रा अपनी कर्म यात्रा से पूरी करेंगे।
आप ही घर और कारोबार को एकता के सूत्र में पिरोकर रख सकते हैं ।
यह हमारी इस यात्रा का ही प्रतिफल है कि हमें समय रहते समझ आ गया – अभी हमारे दोनों बच्चे परिपक्व नही हुए हैं । उन्हें अनुभव की कमी है और एकता का महत्व भी नहीं मालूम । अब वापस चलकर उन्हें एकता से रहने का पाठ भी पढ़ाना होगा । एकता का यही बल उनकी शक्ति है। हम उन्हें बिखरने नहीं देंगे। चलो वापस चलते हैं – अपने स्नेह सदन , जहां हमारा स्नेह ही उन्हें एकता का सबक देगा।
राधा की समझदारी भरी बातों ने रमानाथ का मन हल्का कर दिया ।
…….उधर मंदिर में बांके बिहारी अपनी मुरली थामे मंद – मंद मुस्कुरा रहे थे। मानो कह रहे हों धर्म से पहले अपना कर्म तो पूरा कर लो ।
मैं तो हूँ ही । यहां भी और तुम्हारे मन में भी ।

#देवेन्द्र सोनी , इटारसी ।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जिन हसीं पलों को समेटा था कल जीने को

Wed Jun 27 , 2018
कल खुद को देखा आईने में और मैं डर गया किसी का कद मेरे रिश्तों पे यूँ भारी पड़ गया जिस शाख में सिमट  कर  ज़िंदगी गुज़ारी थी आज वो जड़ समेत ही मिटटी से उखड गया जिन हसीं  पलों को  समेटा था कल जीने को वक़्त के तूफ़ान  में […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।