प्यार में सुध-बुध खो बैठी इस कदर दिवानी हुई मेरे प्यार की कहानी तो अब सबकी जुबानी हुई। मैं तो तूझ में समायी हुई प्रेम की सागर में गोते लगाती हुई तेरे प्यार में सुध बुध खो बैठी इस कदर दिवानी हुई मेरे प्यार की कहानी तो अब सबकी जुबानी […]

नित चमन के फूलों को मसल कर आंगन की बगिया ही उजड़ रही मिलता क्या है ऐसे कुकर्मो से नन्हीं-नन्ही बिटिया सिमट रही। अभी चलना भी नही सीखा था उसने बोलती भी अधूरी ही थी कैसे कैसे जुल्म किए तूने सारी मानवता ही हिल रही अक्ल के दुश्मन तुझे दया […]

दुःखी होकर करची बोला, कलम से जमाना बीत गया जब छिलकर मुझे कलम बनाया जाता नित्य लिखने के लिए दवात में डूबोया जाता शब्दों की लेखनी को आकर्षक बनाने का कर्णधार मुझे बनाया जाता। फिर वक्त बदला और कलम तेरा जन्म हुआ मेरी महत्ता घटती गयी शब्दों की आकर्षकता, शालीनता […]

मानव जीवन के लिए नींद , शांति , आनन्द , हवा , पानी , प्रकाश और सबसे ज्यादा हमारी सांसे, बेहद जरूरी है क्योंकि इनके बिना जीवन की कल्पना ही नहीं की जा सकती। अनमोल तो ये हैं ही, पर ये निःशुल्क भी है,यही वजह है कि लोग इसकी अहमियत […]

अवतरित हुआ अब तो, भारत का पार्थ। पृथक-पृथक मानसिकता, को देकर मात।। शपथ लेकर आया है, सुशोभित अब सिंहासन। तनिक भी क्लेश नहीं, दूर होगा अब दुःशासन ।। जागृत रही जनआकांक्षा तो, होंगे कठिन कार्य पूर्ण। जनमत की ताकत तो, अधिकार देता सम्पूर्ण।। राष्ट्र ध्वज तीन रंगो का, तीन ही […]

काली-काली हे बदरिया पिया से जा के क ह संदेशिया ऐसे में, सजन काहे हैं परदेशिया। कैसे कहू मैं काली बदरिया पिया के संदेश ना’ नाही कोई खबरिया काली काली बदरिया▪▪▪▪▪ जब जब हो, चमकत बिजूरिया तन-मन में उठत हिलोरिया काली-काली बदरिया पिया से जा के क ह संदेशिया ऐसे […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।