मिलावट का बाजार

Read Time0Seconds
aashutosh kumar
मिलावट का बाजार लगे
लाला लगा धन कमाने में
सारी सामग्री दवाओं में लिपटी
जंग लग रही देश के होनहारो में।
बढती रासायनिक प्रयोग अब
सितम ढाने लगा
दाल रोटी साग सब्जी फल भी जबसे
रासायनिक प्रयोगो द्वारा उपजने लगा।
बढ़ते रोगो से इंसान वक्त से पहले ही
धरती से जाने लगा
पैदावार तो बढ़ रही पर
जिन्दगीयाँ सिमटने लगा
नये-नये नित रोगो का प्रचलन
जबतक पता चले घरो में मातम
जैविक और पुरानी पद्धति गायब हुई
रोज खुले अस्पताल फिर भी
रोगो से ही नई-नई आफत हुई।
कुछ नही है शुद्ध यहाँ अब
पानी भी मिले अब बोतलो में
हवा भरी जाये सेलेन्डरों में
विषैला ही मिलता है सब
घोटालो की बाजारों में।
फल सब्जी दाल में मिलावट
कैमिकलो की घोर खपत है
बैको में बैलेंस बढे पड़े हैं
खाकर उल्टा पुल्टा दाना
अस्पतालों में भीड बढने लगे हैं।
ऐसी आधुनिकता का क्या करोगे
जब शरीर से निरोग न रहोगे
शुद्धता की उपाय ढूँढो
रोज के आहारों में।

“आशुतोष”

नाम।                   –  आशुतोष कुमार
साहित्यक उपनाम –  आशुतोष
जन्मतिथि             –  30/101973
वर्तमान पता          – 113/77बी  
                              शास्त्रीनगर 
                              पटना  23 बिहार                  
कार्यक्षेत्र               –  जाॅब
शिक्षा                   –  ऑनर्स अर्थशास्त्र
मोबाइलव्हाट्स एप – 9852842667
प्रकाशन                 – नगण्य
सम्मान।                – नगण्य
अन्य उलब्धि          – कभ्प्यूटर आपरेटर
                                टीवी टेक्नीशियन
लेखन का उद्द्श्य   – सामाजिक जागृति

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

धरोहर

Wed Jun 26 , 2019
“राघव ,इधर आओ …देख लो सब; पिताजी के सारे कपड़े मैंने वृद्ध आश्रम में देने के लिए निकाल दिए हैं। बाकी जो सामान है उसे भी देख लो क्या रखना है और क्या नहीं। मुंबई जाने से पहले मैं सारे काम निपटा लेना चाहती हूं। और हां….. सबसे पहले इन […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।