दीवाली

Read Time6Seconds

jp pandey
जलाए जा रहे हर तरफ लाखों दीए जब,

झालरों की टिमटिम से जहां रोशन हुआl

सितारे भी शर्माने लगे चकाचौंध से,

अंधेरा जिंदगी में इस तरह दाखिल हुआll

 

सोने-चांदी की चमक में सबको निहारे,

लाखों के जेवर सुबह औ शाम थामेl

मुस्कराहट बेचता रहता है दिनभर,

मिट्टी के दीए भी मिलते नहीं बिना मांगेll

 

पटाख़ों की आवाज से गूंजा है गगन,

वो तो तन्हाईयों की आवाज में है मगनl

गगनचुंबी फुलझड़ियां रोशनी बिखेरती वहाँ,

दंत पंक्तियों की चमक में उसकी छिपी थातीll

 

आ गई है देखो मुँह चिढ़ाती दीवाली,

है वह खुद खाली,थाली भी खालीl

खुशहाली की किस लहर पर हो सवार,

सूखा है समन्दर,कैसे आए सुनामीll

 

ग़ज़ल की महफ़िल में खुली कविता की तरह,

तरन्नुम औ बहर में डूबता-उतरता फिराl

शेरों औ रूबाइयों के कदमों तले,

बेतरतीब-सा देखो वह है आ गिराll

                                                              #जे.पी.पाण्डेय
परिचय: जे.पी.पाण्डेय का निवास उत्तराखंड राज्य के शहर मसूरी में है। आपकी जन्मतिथि-९ अप्रैल १९७६ तथा जन्म स्थान-भिलाई है। एमए और एलएलबी की शिक्षा हासिल करके बतौर कार्यक्षेत्र आप प्रशासनिक सेवा(इंडियन रेलवे पर्सनल सर्विस)में हैं।
लेखन क्षेत्र में आपकी विधा-कविता, कहानी और संपादकीय लेख है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रुप से लेखन जारी है। लेखन में आपको ‘आगमन साहित्य सम्मान’ मिला है तो प्रशासनिक सेवा में उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त किया है। लेखन का उद्देश्य-सामाजिक सरोकार निभाते हुए विसंगतियों का चित्रण करके उन्हें सुधारना है।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

एक दीवाली ऐसी भी

Fri Oct 27 , 2017
दीवाली खुशियों का त्योहार है, चलो सब मिल दीप जलाओl गरीब कुम्हार के घर में भी, थोड़ी-सी खुशियां दे आओll दिल से सारे बैर भुलाओ, दुश्मन को भी हँस के गले लगाओ। कोशिश करो कि अंधियारा दूर हो द्वेष और ईर्ष्या दिल से मिटाओll सारे कष्ट दूर हो जीवन से, न हो […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।