पानी है अनमोल

Read Time19Seconds


क्षिति जल पावक नभ पवन,
. जीवन ‘विज्ञ’ सतोल।
जीवन का आधार वर,
. पानी है अनमोल।।
. 💧🌳💧
मेघपुष्प ,पानी सलिल, आप: पाथ: तोय।
विज्ञ वन्दना वरुण की, निर्मल मति दे मोय।।
. 💧🌳💧
जनहित जलहित देशहित, जागरूक हो विज्ञ
जीवन के आसार तब, जल रक्षार्थ प्रतिज्ञ।।
. 💧🌳💧
वारि अम्बु जल पुष्करं, अम्म: अर्ण: नीर।
उदकं, घनरस शम्बरं, विज्ञ रक्ष मतिधीर।।
. 💧🌳💧
सरिता तटिनी तरंगिणी, द्वीपवती सारंग।
नद सरि सरिता आपगा, जलमाला जलसंग।।
. 💧🌳💧
अपगा लहरी निम्नगा, निर्झरिणी जलधार।
सदा सनेही सींचती, करलो विज्ञ विचार।।
. 💧🌳💧
स्वच्छ रखो जल विज्ञ नर, नहीं प्रदूषण घोल।
नयन नीर नर नारि रख, पानी है अनमोल।।

नाम–बाबू लाल शर्मा 
साहित्यिक उपनाम- बौहरा
जन्म स्थान – सिकन्दरा, दौसा(राज.)
वर्तमान पता- सिकन्दरा, दौसा (राज.)
राज्य- राजस्थान
शिक्षा-M.A, B.ED.
कार्यक्षेत्र- व.अध्यापक,राजकीय सेवा
सामाजिक क्षेत्र- बेटी बचाओ ..बेटी पढाओ अभियान,सामाजिक सुधार
लेखन विधा -कविता, कहानी,उपन्यास,दोहे
सम्मान-शिक्षा एवं साक्षरता के क्षेत्र मे पुरस्कृत
अन्य उपलब्धियाँ- स्वैच्छिक.. बेटी बचाओ.. बेटी पढाओ अभियान
लेखन का उद्देश्य-विद्यार्थी-बेटियों के हितार्थ,हिन्दी सेवा एवं स्वान्तः सुखायः 

0 0

matruadmin

Next Post

नेपाल राष्ट्र के नव वर्ष २०७७ की हार्दिक शुभकामनाएं : मिलिंद परांडे

Mon Apr 13 , 2020
नई दिल्ली। विश्व हिन्दू परिषद् ने नेपाल राष्ट्र के सभी नागरिकों वहां के प्रधान मंत्री व राष्ट्रपति को नेपाली नव वर्ष २०७७ की शुभकामनाएं दी हैं. नेपाली नयाँ वर्ष के प्रथम दिवस के मंगल अवसर पर जारी किए अपने बधाई संदेश में विहिप के केन्द्रीय महा सचिव श्री मिलिंद परांडे […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।