दौलत का नशा

0 0
Read Time11 Minute, 5 Second

दौलत – शौहरत और ऐशो – आराम की जिंदगी व्यतीत करने वाली रेखा अपने दो बच्चों के साथ फुटपाथ पर बैठी आंसुओं के समंदर में गोते लगा रही थी । भूख से बिलखते बच्चे और दाने – दाने को मोहताज रेखा दर – दर की ठोकरें खाने को मजबूर थी । समाज के ताने ने उसकी जिंदगी को और अधिक बेचारगी में तब्दील कर दी थी । आज उसके मां – बाप भी उसे अपने साथ रखने को तैयार नहीं थे । वह पश्चाŸााप की अग्नि में झुलस रही थी , पर इस तपिश से ठंडक दिलाने वाला भी कोई नहीं था ।
उसके जीवन में सदैव साथ निभाने वाला उसका प्रेमी देवर भी उसे छोड़ चुका था । वह अपने देवर की दौलत की चका चैंध में इस प्रकार खो गयी थी कि उसकी आंखों के आगे दौलत के सिवा कुछ नजर ही नहीं आ रहा था । दौलत की लालसा ने ही उसे अपने पति को छोड़ देवर के साथ भागने पर मजबूर कर दिया । उसका पति विकास दूसरी शादी कर अपना घर बसा चुका था ।
लोगों के घरों में काम कर अपने बच्चों की परवरिश करने को मजबूर रेखा को लोग बुरी निगाहों से देखते थे । लेकिन वह तो अपना सब कुछ लुटाकर वह अपने बच्चों की परवरिश करने के लिए मजबूर थी और इंसान के शक्ल में भेड़ियों से बचने का प्रयास कर रही थी ।
आज उसे विकास याद आ रहा था । वह बीते दिनों की बातें याद करने लगी।
जब वह नई नवेली दुल्हन बनकर विकास के घर आयी थी । घरवालों ने उसे सिर – आंखों पर बिठा लिया था । सास तो मानों उसे बेटी की तरह मानती थी । विकास का तो कहना ही क्या ? वह तो सारा दिन रेखा के आगे – पीछे मंडराया करता था । उसका देवर केशव भी उसके रूप – रंग देखकर उसके सौंदर्य पर मुग्ध हो गया । यही कारण था कि केशव उसके आसपास मधुमक्खी की तरह मंडराया करता था । केशव की दौलत और उसके इस प्रकार रेखा के आगे – पीछे मंडराना उसे अपनी ओर आकर्षित कर रहा था । उसका पति विकास बेरोजगार था , तो वहीं उसका देवर केशव कमाने वाला था । केशव रूपयों से मालामाल था । वहीं विकास पैसे – पैसे को मोहताज रहता था । लेकिन उसकी मां उसे पैसो से मोहताज नहीं होने देती । वह बराबर विकास को पैसे देती रहती । इतना होने के बावजूद भी विकास रेखा की हर जरूरत को पूरा करने का प्रयास करता । लेकिन धीरे – धीरे उसके वैवाहिक जीवन में कड़वाहट आनी शुरू हो गयी । विकास रेखा से दूर होता जा रहा था , तो केशव से उसकी नजदीकियां बढ़ती ही जा रही थी । इस प्रकार रेखा के वैवाहिक जीवन के पांच वर्ष पूरे हो गये । रेखा दो बच्चों की मां बन गयी । फिर भी उसके व्यवहार में कोई अंतर नहीं आ रहा था । वह दिन पर दिन अपने देवर केशव के मोहजाल में फंसती ही जा रही थी । केशव भी उस पर पानी की तरह रूपये लुटा रहा था । रेखा और केशव के इस गलत आचरण को देखकर विकास के माता – पिता काफी व्यथित थे कि उनकी अपनी ही बहू घर की खुशियों में ग्रहण लगा रही थी । केशव अविवाहित था । इन दोनों के प्रेम से घर का माहौल दूषित हो रहा था । घर में रोज लड़ाई – झगड़े होने लगे । विकास जब भी रेखा को केशव से दूर रहने को कहता , तो वह कहती – ” तुम लोग जान बूझकर मेरे चरि.त्र पर अंगुली उठा रहे हो । मेरा तुम्हारा भाई से कोई संबंध नहीं है । क्या देवर भाभी में हंसी – मजाक करना गुनाह है ? तुम लोग बेकार में बात को तूल दे रहे हो । आखिर तुम कमाते ही क्या हो ? सारा दिन घर में निठल्ले बैठे रहते हो । तुम्हारे इस प्रकार बेकार बैठे रहने से क्या मेरी जिंदगी सुखमय हो सकती है ? यदि तुम मेरी जरूरतों को पूरा नहीं कर सकते हो , तो तुम्हारा भाई मेरी जरूरतों को पूरा कर देता है ; इसमें क्या बुराई है ? “
विकास रेखा को समझाते हुए कहता है – ” रेखा , तुम दौलत की भूखी हो । दौलत की भूख ही इंसान को गलत रास्ते पर चलने को मजबूर कर देती है । आज तुम उसी रास्ते पर चल पड़ी हो , जिसका भविष्य अंधकारमय है । तुम रेत से महल तैयार कर रही हो , जो एक दिन भरभरा कर ढह जाएंगा । तुम्हारे कहने का मतलब यही है न कि मैं बेकार बैठा इंसान हूं । आज सारे देश में मेरे जैसे न जाने कितने युवा है जिनकी स्थिति बद से बदतर है । नौकरियां पेड़ पर नहीं उगती कि जाओ और तोड़ लो । सारे देश में बेरोजगारों की फौज खड़ी है । रोजगार के अवसर खत्म होते जा रहे हैं । सारा देश बेकारी और महंगाई से त्रस्त है । मैं कहीं न कहीं कोई काम खोज ही लूंगा । लेकिन तुम दौलत के लालच में अपनी और केशव की जिंदगी के साथ खेल रही हो । बाद में बहुत पछताओगी । तुम्हारे आंसू भी पोंछने वाला कोई नहीं होगा । अब भी समय है अपने आपको सुधार लो । दौलत ही सब कुछ नहीं है । जीवन में संघर्षशील बनो । वरना यह दौलत का नशा तुम्हें कहीं का नहीं छोड़गा । “
लेकिन रेखा तो दौलत की चकाचैंध में ऐसी खोयी थी कि उसे आगे – पीछे कुछ नजर नहीं आ रहा था । रेखा विकास की बातों पर कोई ध्यान नहीं देती थी । वह तो अपनी ही दुनिया में मस्त रहती थी और उधर विकास घुटन भरी जिंदगी जीने को मजबूर था ।
एक दिन विकास किसी काम से बाहर गया हुआ था । घर के लोग सो चुके थे । विकास देर रात घर आया । रेखा को अपने कमरे में न पाकर बच्चों से पूछा – ” रेखा कहां है ? “
बड़ी बेटी ने सहमे स्वर में कहा – ” अंकल के कमरे में । “
विकास शीघ्र अपने कमरे से निकल केशव के कमरे की ओर लपका । देखा कमरे का दरवाजा खुला है । वह जैसे ही कमरे के भीतर प्रवेश किया । वहां का दृश्य देखकर दंग रह गया । वे दोनों एक – दूसरे की बांहों में झूल रहे थे ।
रेखा विकास को देखकर अपने आपको केशव से अलग कर अपने कपड़े को ठीक करने लगी । विकास क्रोधित स्वर में बोला – ” रेखा , अब तुम क्या कहना चाहती हो । मेरा तो शक पहले से ही था कि तुम मुझे धोखा दे रही हो । रेखा ! अब मैं तुम्हें एक पल भी अपने साथ नहीं रख सकता । बेवफा औरत अब तुम मेरी जिंदगी से दूर चली जा । “
इस पर रेखा चीखते हुए बोली – ” हां , हां , मैं केशव से प्यार करती हूं । मैं केशव के बगैर नहीं रह सकती । हां , मैं दौलत की पुजारिन हूं । तुम जैसे निक्कमें और भिखारी के साथ मैं अपनी जिंदगी बिता नहीं सकती । तुम मुझे क्या छोड़ोगे , मैं ही तुम्हें छोड़कर जा रही हूं । अब केशव ही मेरी जिंदगी है । “ केशव ने भी रेखा के सुर में सुर मिला दिया । इस प्रकार रेखा अपने हंसते – खेलते परिवार को छोड़कर घर से केशव के साथ चली गयी ।
रेखा के घर छोड़ने के कुछ दिन बाद ही विकास को सरकारी नौकरी मिल गयी । विकास को भी एक सभ्य लड़की से प्यार हो गया और दोनों ने शादी कर ली ।
इधर रेखा का जीवन कुछ समय तो सुखमय बिता , लेकिन एक दिन केशव ने रेखा की जिंदगी में भूचाल ला दिया । केशव को एक खूबसूरत और कमाने वाली लड़की से प्यार हो गया । वह रेखा को छोड़कर उससे विवाह कर लिया ।
रेखा को जब इस बात की जानकारी हुई , तो वह केशव के पास गयी और बोली – ” केशव , तुम मेरे साथ ऐसा नहीं कर सकते । तुमने मेरे साथ धोखा किया है । तुम मेरी जिंदगी के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकते । अब मेरा और मेरे बच्चों का क्या होगा ? तुमने तो मुझे कहीं का नहीं छोड़ा । तुम मुझे ऐसे कैसे छोड़ सकते हो । “
केशव मुस्कुराकर बोला -” मैंने तुम्हें धोखा नहीं दिया है और न मैंने तुमसे विवाह किया है । तुम स्वयं अपने पति को ठुकराकर मेरे साथ रहने लगी । धोखा तो तुमने पति विकास को दिया है । तुम दौलत की खातिर किसी को भी धोखा दे सकती है । जो औरत अपने पति के साथ गद्दारी कर सकती है । ऐसी औरत पर कौन विश्वास करेेगा ! तुम सिर्फ दौलत से प्यार करती हो न कि मुझसे । जिस दिन मेरे पास दौलत नहीं होगी , तुम उस दिन मुझे भी ठुकरा दोगी । तुम जैसी लालची औरत पर भला कौन विश्वास करेगा । जहां तक बच्चों का सवाल है वे मेरे नहीं हैं । अब तुम अपना ठिकाना कहीं और ढूंढ़ लो । मैं तुम्हें अपने साथ नहीं रख सकता । “
रेखा अब करती भी क्या ? उसे अपने कर्मों की सजा मिल गयी थी । अब उस एहसास हो गया था कि दौलत का नशा क्या होता है ? इसी दौलत के नशे के कारण वह अपने पति और परिवार से दूर हो गयी । अब वह विकास के पास तो जा नहीं सकती । जायेगी भी तो किसी मुंह से ? आखिर उसने देवर – भाभी के रिश्ते को जो कलंकित कर दिया ।
पुष्पेश कुमार पुष्प
बाढ़ ( बिहार )

matruadmin

Next Post

मातृभाषा ने कलाधर्मी इन्दौर की पीड़ा को जिलाधीश तक पहुँचाया

Thu Jul 29 , 2021
मातृभाषा ने जिलाधीश इन्दौर को सौंपा आग्रह पत्र इन्दौर। कोरोना की भयावहता के बाद शहर में समस्त सांस्कृतिक आयोजन होना प्रतिबंधित है और इससे शहर की प्रतिभाओं के सामने आर्थिक संकट खड़ा हुआ है। इसी को ध्यान में रखते हुए मातृभाषा उन्नयन संस्थान ने इन्दौर जिलाधीश को एक आग्रह पत्र […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।